कबीर जाग री जाग री 307

Share:

जाग री-३, मेरी सूरत सुहागिन जाग री।
       क्या सोवे तू मोह निहद में,
                    उठ भजन में लाग री।
        अनहद शब्द सुनो चित्त लाके,
                     उठत मधुर धुन राग री।
        चरण शीश धर विनती करियो,
                    पावेगी अटल सुहाग री।
          कह कबीर सुनो म्हारी सुरतां,
                    जगत पीठ दे भाग री।।

No comments