कबीर करो रे मन गगन 207

Share:

करो रे मन ,गगन मण्डल की सैल।
हरि के भजन बिन ऐसे दुःख पावे जी,
                     ज्यों तेली को बैल।
हरी के भजन से पाप कटेंगे जी
                      ,ज्यों साबुन से मैल।
जो जन्मा सो आया मरण में जी,
                       क्या बूढ़ा क्या छैल।
मात पिता तेरा कुटुंब कबीला जी
                       कोए ना चले तेरी गैल।
कह कबीर सुनो भई साधो,छोड़ जगत के फ़ैल।

No comments