loading...

कबीर चलो चलो सखी 284

Share:

चलो-२ सखी अब जाना,पिया भेज दिया परवाना।
एक दूत जबर चल आया,
          सब लश्कर लाव मंगाया,
                    किया बीच नगर के थाना।
गढ़ कोट किला गिरवाया,
          सब द्वार बंद करवाया,
                    अब किस विध होए रहाना।
जब दूत महल में आवे,
         वे तुरंत पकड़ ले जावे,
                    तेरा चले ना एक बहाना।
वो पंथ कठिन है भारी,
         कर संग सामान तयारी,
                    ब्रह्मानंद फेर नहीं आना।

         

No comments