कबीर ईश्वर से करते 43

Share:

ईश्वर से करते जाना प्यार,ओ नादान मुसाफिर।
       जीवन की नैया क्र ले पार,ओ नादान मुसाफिर।।

        जीवन अनमोल हीरा, मिटटी ना रोल वीरा।
               तुझ को समझाया,बारम्बार ओ ।।

        जब तक है जोश जवानी,बगड़ी सब बात बनानी।
                     होने ना पावे, अत्याचार ओ ।।

         सज्जन की संगत करना,दुर्जन से हरदम डरना।
                       वरना तूँ डूबेगा, मझधारा ओ ।।

         राम तेरा अंत सहाई, उस को ना भूलो भाई।
                       जीवन के पल हैं, दो चार ओ ।।

  

No comments