loading...

कबीर सद्गुरु अपने कै।237

Share:

कबीर सद्गुरु अपने कै।


सद्गुरु अपने कै, दाता अपने कै, सन्मुख रहना।
                           जग में लाज रहो ना रहो रे।।
घट का पर्दा खुल भी गया तो,  
                             हाथ में माला रहो न रहो रे।
नाचन लागी तो घूंघट कैसा,
                   अपना पराया कोए खड़ा भी रहो रे।

कोई टिप्पणी नहीं