loading...

Kumar Vishwas – Khawab itne to dagabaaz n the mere kabhi (कुमार विश्वास – ख़्वाब इतने तो दगाबाज़ न थे मेरे कभी)

Share:

Kumar Vishwas – Khawab itne to dagabaaz n the mere kabhi (कुमार विश्वास – ख़्वाब इतने तो दगाबाज़ न थे मेरे कभी)

Kumar Vishwas - Khawab itne to dagabaaz n the mere kabhi
Kumar Vishwas
*****
Tumhare khawab bhi tum jaise shaatir nikle
Khawab itne to dagabaaz n the mere kabhi?
Khawab itni to meri neend nahin chalte the?
Raat ke baat kya ek daur mein ye khanabadosh,
Din niklte hi mere saath-saath chalte the,


Mein inhe jab bhi panaho.n mein jagah deta hua,
Apni palko.n ki mudero.n pe saja leta tha,
Poora mausam inhi khwabo.n ki sugandho.n se saja,
Mere chatke hue nagmon ka maza leta tha,
Kuch hawao.n ke parinde inhin khwabo.n mein lipt,
Chaand ke saath meri chhat pe aa ke milte the,
Ye aandhiyo.n ko dikha kar muraad ki jeebhe.n,
Mere aankho.n mein chiraago.n ki tarah jalte the,


Aur ye aaj ki shab inki himakat dekho,
Itni minnat pe bhi ye ek palak-bhar na ruke,
Inki aukaat kahan? Ye hai mukaddar ka fareb,
Itni zillat ke mere ishq ka dastaar jhuke,
Ye bhi din dekhne the aaj tumhare bal par,
Khwab ke mudra riyaaya ke bhi yoon par nikle,
Tumhari baatein, nigah, vaade to tum jaise the,
Tumhare khawab bhi tum jaise shaatir nikle…..


Kumar Vishwas
<—–Usi ki tarah mujhe sara zamana chahe           Ye sab sach hai, geet nahi hai—->
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
तुम्हारे ख्वाब भी तुम जैसे ही शातिर निकले
ख़्वाब इतने तो दगाबाज़ न थे मेरे कभी ?
ख्व़ाब इतनी तो मेरी नीँद नहीं छलते थे ?
रात कि बात क्या इक दौर में ये ख़ानाबदोश,
दिन निकलते ही मेरे साथ-साथ चलते थे,
मैं इन्हें जब भी पनाहों में जगह देता हुआ,
अपनी पलकों की मुडेरों पे सजा लेता था ,
पूरा मौसम इन्ही ख्वाबों की सुगंधों से सजा,
मेरे चटके हुए नग्मों का मज़ा लेता था ,
कुछ हवाओं के परिंदे इन्ही ख़्वाबों में लिपट,
चाँद के साथ मेरी छत पे आ के मिलते थे ,
ये आँधियों को दिखा कर मुराद कि जीभें,
मेरे आखों में चिरागों कि तरह जलते थे ,
और ये आज की शब इनकी हिमाकत देखो,
इतनी मिन्नत पे भी ये एक पलक-भर ना रुके,
इनकी औकात कहाँ ?ये है मुकद्दर का फ़रेब,
इतनी जिल्लत कि मेरे इश्क़ का दस्तार झुके,
ये भी दिन देखने थे आज तुम्हारे बल पर,
ख़्वाब कि मुर्दा रियाया के भी यूँ पर निकले,
तुम्हारी बातें, निगह, वादे तो तुम जैसे थे,
तुम्हारे ख्वाब भी तुम जैसे ही शातिर निकले ….
कुमार विश्वास
<—–उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे           ये सब सच है गीत नहीं है—->
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****

कोई टिप्पणी नहीं