loading...

20 कबीर गुरुआं ने बीन। 12

Share:

गुरुआं ने बीन बजाई, साधो मेरा मन पकड़ा।
मैं बहु रँगन नागिन पकड़ी जी,
                             जिसका डँसा मर जाई।।
पकड़ बांध पिटारे में रोकी जी,
                               ------
धोइ दातरी सब तुड़वाई जी,
                            दिया कुमति जहर सुतवाई
घीसा सन्त सपेरा बन गया जी,
                             जीता को गारडू सिखाई।

कोई टिप्पणी नहीं