loading...

कबीर या दुनिया भर्म। kabir ke shabd no 142

Share:

      या दुनिया भर्म ने खाई रे।।
  लाख यत्न से तोता पाला,
                       रुचि रुचि मेवा खिलाई रे।।
सत्त का तेल धर्म की बाती,
                      नित नित जोति जलाई रे।।
टूट गया पिंजरा उड़ गया तोता,
                      पिंजरे का भाव बताई रे।।
कह कबीर सुनो भई साधो,
                      खोजी ने खोज ये पाई रे।।

No comments