loading...

कबीर मेरी सुरतां देश गुरु के जाइए।। 225

Share:

मेरी
नेम की नेजु धर्म के पलड़े, पकड़ सूरत चढ़ जाइए।
निरत सूरत के बांध घुंघरू,राग छतीसों गाइए।।

ना वहां सूरज ना वहां चन्दा, ना वहां नोलख तारे।
            जब रोशनी हुवै महल में,
                          देख मगन हो जाइए लाडली।।
गगन मण्डल में अमृत बरसे, पी के प्यास बुझाइए।
           उसी शहर में सेज पिया की,
                            जाके लेट लगाईए।।
हँसदास की लाडली हे, मत दिल में घबराइए।
                  मालिक के घर जा लइ सुरतां,
                             फेर बावहड़ नहीं आइए लाड़ली।।

कोई टिप्पणी नहीं