loading...

कबीर रे मन मुसाफिर। 287

Share:

रे मन मुसाफिर निकलना पड़ेगा,
                          काया कुटी खाली करना पड़ेगा।
चमड़े के कमरे को तूँ क्या सम्भाले,
        जिस दिन तुझे घर का मालिक निकाले।
                   इसका किराया भी भरना पडेगा।।
आएगा नोटिस जमानत न होगी,
         पल्ले में गर कुछ अमानत न होगी।
                     फिर होके कैद तुझे चलना पड़ेगा।।
मेरी न मानो यमराज तो मनाएंगे,
         तेरा कर्म दंड मार मार भुगताऐंगे।
                     घोर नरक बीच दुःख सहना पडेगा।।

कोई टिप्पणी नहीं