loading...

कबीर पांचों हे तत्व 307

Share:

पाँचों हे तत्व मिलाके, चरखा अजब बनाया रंग लाके।।
   तीन गुणों का तक़वा ए डारा,
                       सत्त की माल चढाकै।।

पांच पच्चीस इसमें घली ए पाँखडी।
                      खूंटे चार जँचा कै।।

जब तेरा चरखा नया ए नवेला,
                       सब मोहें चित्त लाकै।।

जब तेरा चरखा हुआ रे पुराना,
                      सब बोलैं बखड़ा कै।।

कह कबीर सुनो भई साधो।
                     धर दिये राछ जला कै।।

कोई टिप्पणी नहीं