loading...

कबीर जिस नगरी म्हारे साहिब बैठे। 334

Share:

   जिस नगरी म्हारे साहिब बैठे, वो बेगमपुर कैसा है।।
है कोई ऐसा जाए मिलावै,
                              हमको यही अंदेसा है।।
बहुत दिनों से चाव हमारे,
                              हरि प्रीतम किस वेशां है।।
चरण कमल हम कब लग परसां,
                             निरखें नूर नरेशां हैं।
नित्यानन्द महबूब गुमानी,
                           मिलते रहो हमेशा हैं।।

  

कोई टिप्पणी नहीं