loading...

कबीर तुम सुनियो सन्त सुजान। 339

Share:

तुम सुनियो सन्त सुजान, गर्भ नहीं करना रे।।
    चार दिनों का रैन बसेरा,
                        आखिर तोकु मरना है।।
तूँ जाने मेरी न्यू ए निभेगी।
                         हरदम लेखा भरना है।।
खाले पिले विलसले रे हंसा।
                         जोड़ जोड़ नहीं धरना रे।।
दास गरीब सकल में साहिब।
                        नहीं किसी से अड़ना है।।
गरीबदास मन धरै न हंसा।
                      अधर धार पंथ कबीरा रे।।


कोई टिप्पणी नहीं