loading...

कबीर भाई तूँ राम नाम। kabir ke shabd no 43

Share:

भाई तूँ राम नाम चित्त धरता, तेरा अगला जन्म सुधरता।
   यम की त्रास सभी मिट जाती,
                                   भक्त नाम तेरा पड़ता।।
तेन्दुल घृत समर्पित गुरु को,
                                   सन्त परोसा करता।।
होता नफा साध की संगत,
                              मूल गांठ नहीं टरता ।।
सूरदास बैकुण्ठ पैठ में, कोए ना फेंट पकड़ता।।

No comments