loading...

कबीर मन ना रंगाए। 157

Share:

  मन ना रंगाए, रंगाए जोगी कपड़ो।
काम क्रोध ने डेरा डाला,
                  मांग मांग के खाया टुकडो
घर घर जा कर अलख जगाया,
                  गलियन का भुसाया कुतड़ा।
बनखंड जाकर धुना लाया
               दिल ना जलाया, जलाया गठरा।।
आजकल के नए नए साधु,
          जोहड़ पे जाके खिंडाया फफड़ा।
कह कबीर सुनो भई साधो,
                 सत्तनाम का ना लाया रगड़ा।।

कोई टिप्पणी नहीं