loading...

कबीर चल हंसा उस देश। 355

Share:

चल हंसा उस देश, समन्द विच मोती है।
चल हंसा वो देशनिराला, बिन शशिभान रहे उजियाला।
         लगे ना काल की चोट, जगामग ज्योति है।
करूँ चलन की जब तैयारी,
          दुविधा जाल फंसे अति भारी।
                      हिम्मत कर पग धरूँ,,हंसनी रोती है।
चाल पड़ा जब दुविधा छुटी,
          पिछली प्रीत कुटुम्ब से टूटी।
                     17 उड़ गई पांच धरण पर सोती हैं।।
जाए किया अमरापुर वासा,
          फेर ना रही आवन की आशा।
                       धरी कबीर मोत के सिर पर जुती है।।

कोई टिप्पणी नहीं