loading...

कबीर हे तूँ पाँच ठगां ने। 130

Share:

   हे तूँ पाँच ठगां ने ठगली, तनै भजन करा ना पगली।।
बाबुल के घर खाई खेली, आई जवानी हुई अलबेली।
                             तूँ ओढ़ पहर के सजली।।
सास ससुर के मन को भाई, सब कुनबे ने खूब सराही।
                             तज पीहर सासरे भगली।।
नो बेटे दस कन्या जाइ, चूंट-२ के देह तेरी खाई।
                            तूँ मोह जाल में फँसली।
जल बुझ काया होगी ढेरी, कुनबा बात मानता न मेरी।
                            तनै लोग कहें बे अक़्ली।।
गुरु अपने के जा न धोरै, इब क्यूँ बैठी कालर कोरै।
                        तूँ बिना मूल भाव के बिक़ली।।

कोई टिप्पणी नहीं