loading...

कबीर मेरा सद्गुरु वैद्ध सयाना। 203

Share:

मेरा सद्गुरु वैद्ध सियाणा, मनै नब्ज दिखावन जाना।।
    मेरी काया में रोग लाग रहा,
                       यो होग्या रोग पुराना।।
मेरी काया में दाग लाग रहा,
                        यो होग्या दाग पुराना।।
सद्गुरु देंगे ज्ञान की गोली,
                         मेरा कट जा रोग पुराना।।
सारी आओ ध्यान तैं सुन लो,
             ज्ञान ध्यान हृदय में धर लो,
                       ना फेर बावहड़ कै आना।।
कह कबीर सुनो भई साधो,
                        यो जन्म मरण मिट जाना।।

No comments