loading...

कबीर गुरू बिन ज्ञान नहीं। kabir ke shabd no 35

Share:

बिना गुरू ज्ञान नहीं जी, जी मुक्ति कैसे पाओगे।।
तेली के घर बनेगा बैलिया जी, आँख्यां पट्टी बन्धाओगे।
            आठ पहर में घाणी उतरै-२,
                         न्यार चरन ना पाओगे।।
बाजीगर घर बनेगा बांद्रा जी, गल में पटा बन्धाओगे
           साबत दिन नाचन में जागा-२,
                         घर घर अलख जगाओगे।।
रहबारी घर बनेगा उंटडा, बारह मन लदवाओगे।
           बारह कोस पे दिन लिकडेगा -२,
                       न्यार कहाँ से खाओगे।।
कुम्हरे के घर बनेगा गदहिया जी,ढाई मन लदवाओगे।
            ढाई कोस तक मार पड़ेगी,
                        जंगल में खुल जाओगे।।
कह कबीर सुनो भई साधो, करनी के फल पाओगे।।

No comments