loading...

कबीर मिलते नहीं हैं भगवान। 114

Share:

मिलते नहीं हैं भगवान, गुरुआं के बिना।।
   गंगा में न्हाले चाहे जमना में नहा ले।
                    न्हाले न चाहे हरिद्वार।।
मन्दिर में जाले चाहे मस्जिद में जा ले।
                    जाले नै चाहे, चारों धाम।।
गीता को पढ ले चाहे, रामायण पढ़ ले
                     पढ ले न वेद पुराण।।
चाहे तुम तो माला जप लो, चाहे तुम तो धूनी रमा लो।
                    चाहे ले लेना सन्यास।।

No comments