कबीर मन के लगाए पिया। 165

Share:

मन के लगाए पिया पावै रे साधो,
                        किस विधि मन को लगावै जी।
जैसे नटनी चढ़े बांस पे, नटवा ढोल बजावै जी।
         इधर उधर से निगाह बचावै,
                       सूरत बांस पे लावै जी।।
जैसे जल भरने गई पनिहारी, सखियों संग बतलावें जी।
          सिर पे घड़ा घड़े पे झारी,
                         झारी में सूरत लगावै जी।।
जैसे बूरा बिखरी रेत में, हाथी के हाथ न आवै जी।
            ऐसा नान्हा बन मेरे मनवा,
                          वा चींटी चुग लावै जी।।
जैसे भुजंग चला चुगें को,मणि अलग धर आवै जी।
           चुगा चुगै रह सूरत मनी में,
                            बिछड़े तो प्राण गंवावै जी।।
जैसे सपेराचला सांपपकड़ने, पिटारीअलग धरआवै जी।
              कह कबीर सुनो भई साधो,
                              नैनों से नैन मिलावै जी।।

No comments