loading...

कबीर आया था नफा कमावन। 201

Share:

आया था कुछ नफे को, तनै खो दिया मुक्ता माल।
मूल ब्याज में दे चला, तनै भजा ना दीन दयाल।।
     आया था नफा कमावन, टोटा गेर लिया रे।।
पिछली पूंजी घटती जा रही, आगै करता ना तैयारी।
           एक दिन या चूक लेगी सारी,
                        तोसा सेर लिया रे।।
सुत नारी का मोह करै सै, अब तो मूर्ख विपद भरै सै।
             निशदिन चिन्ता बीच जलै सै,
                         झगड़ा छेड़ लिया रे।।
हरि के जाना होगा साहमी, मतना शीश धरै बदनामी।
             तूँ असली नमक हरामी,
                          मुखड़ा फेर लिया रे।
धर्म ने छोड़ करै मत चाला तेरा ममता ने कर दिया गाला
            अहंकार नाग है काला,
                        तूँ तो घेर लिया रे।।
श्री हरिस्वरूप कथन है चन्दन,समझै उसके काटै बन्धन
             सनातन धर्म जगत का नन्दन,
                        कई बार टेर लिया रे।।

कोई टिप्पणी नहीं