loading...

कबीर तेरा जीवन है बेकार। kabir ke shabd no 89

Share:

तेरा जीवन है बेकार, भजन बिन दुनिया में।।
बड़े भाग से नर तन पाया, इसमें भी हरि गुण नहीं गाया।
                              किया ना पृभु से प्यार।।
माया ने तुझ को बहकाया, संग चले ना तेरी काया।
                               क्यूँ बनते हुशियार।।
धन दौलत और माल खजाने, जिनको मूर्ख अपना माने।
                                जाएगा हाथ पसार।।
क्या लेकर तूँ आया जग में, क्या लेकर जाएगा संग में।
                                  रे मति मन्द गंवार।।
जब यमदूत लेन ने आवै, रो रो करके तूँ चिल्लावै।
                                  पड़े करारी मार।।
श्री सदगुरू की शरण में आओ,
               अपना जीवन सफल बनाओ।।
                                तब होवै उद्धार।।

No comments