loading...

कबीर तेरा जन्म मरण मिट जाए। 91

Share:

तेरा जन्म मरण मिट जाए, गुरु का नाम रटो प्यारे।।

जग में आया नर तन पाया, भाग बड़े भारे।
                       मोह भुलाना कदर न जाना,
                                           रीत रत्न डारे।।
बालापन में मन खेलन में, दुख दुःख ना धारे।
                      जोबन रसिया सो मन बसिया,
                                       तन मन धन हारे।।        बूढा होकर घर में सो कर, बोलै वचन खारे।
                     दुर्बल काया रोग सताया,
                                       तृष्णा तन जारे।।
बीती उमरा राम नहीं सुमरा कासल यहाँ मारे।
                    ब्रह्मानन्द बिना जगदीश्वर,
                                         कौन विपत टारे।।

कोई टिप्पणी नहीं