loading...

कबीर चलो चलो सखी अब। kabir ke shabd no 74

Share:

चलो चलो सखी अब जाना, पिया भेज दिया परवाना।।
एक दूत जबर चल आया, सब लश्कर संग सजाया।
                                 किया बीच नगर के थाना।।
गढ़ कोट किला गिरवाया, सब द्वार बंद करवाया।
                             अब किस विधि होए रहाना।।
जब डॉय महल में आवै, वे तुरंत पकड़ ले जावै।
                              तेरा चले ना एक बहाना।।
वो पंथ कठिन है भारी, कर संग सामान तैयारी
                           ब्रह्मानन्द फेर नहीं आना।।

No comments