loading...

कबीर तन धर सुखिया कोय ना देखा। 85

Share:

तन धर सुखिया कोय ना देखा, जो देखा सो दुखिया हो।
उदय अस्त की बात कहत हूँ, सबका किया विवेका हो।।

शुक आचारज दुख के कारण गर्भ में माया त्यागी रे।
                घाटा घाटा सब जग दुखिया,
                                   क्या गृहस्थी वैरागी ते।।
साँच कहूँ तो कोय ना मानै, झूठी कही न जाए रे।
                ब्रह्मा विष्णु महेश्वर दुखिया, 
                                    जिसने या सृष्टि रचाई रे।।
जोगी दुखिया जंगम दुखिया, तपसी को दुख दूना रे।
               आशा तृष्णा सब घट व्यापै,
                                   कोई महल न सुना रे।
राजा दुखिया प्रजा दुखिया, रंक दुखी धन रीता रे।
                 कह कबीर सभी जग दुखिया,
                                    साध सुखी मन जीता रे

No comments