loading...

कबीर। मेरा मन वैरागी हुआ री। kabir ke shabd no 168

Share:

मेरा मन वैरागी-२, हुआ री मेरी माँ।
                    मेरा मन लगा फकीरी में।।
यो सँसार ओस जैसा मोती,
                      धूप लगे उड़ जाए मेरी माँ।। मेरा मन।
यो सँसार मिट्टी का ढेला,
                         बूंद लगे गल जाए मेरी माँ।।
यो सँसार कागज की पुड़िया,
                         हवा चले उड़ जाए मेरी माँ।।
कह मीरा रविदास की चेली,
                भक्ति में शक्ति समाई मेरी माँ।।

No comments