loading...

कबीर। पीहर में दाग लगा आई। kabir ke shabd no 228

Share:

पीहर में दाग लगा आई चुनड़ी।।नैहर में।।
     लगा आई चुनड़ी, गंवा आई चुनड़ी।
रँगरेजा को मर्म न जानै,
          नहीं मिले धोबी तो कौन करे उजड़ी।।
ज्ञान का साबुन, ला कै धोले,
           सत्त संगत जल भर लाओ गगरी।।
कह कबीर सुनो भई साधो,
          बिन सत्संग कौन विधि सुधरी।।

No comments