loading...

कबीर दौड़ा जाए रे समय का घोड़ा। kabir ke shabd no 277

Share:

नाम हरि का जप ले रे बन्दे, जीवन है ये थोड़ा।
               दौड़ा जाए रे, समय का घोड़ा।।

खेलोंमें बचपनको गंवाया,भूलगया किसकाम कोआया।
यौवन काल काम भरमाया, देख बुढापा क्यूँ घबराया।
                 आंख खुली जब खड़ा सिरहाने,
                                         लेकर काल हथौड़ा।।

नाम हरि का अमृत प्याला, पीकर तूँ बनजा मतवाला।
जोतजगा इसनाम कीमन में, जीवनमें होगा उजियाला।
          पछताएगा बन्दे तूने,
                                क्यों इससे मुख मोड़ा।।
सदा रहे ना यहां ठिकाना, बात ये बंदे भूल न जाना।
हरि का सुमरण करले, घटता जाए स्वांस खजाना।
         साथ न जाएगा जो तूने,
                                 लूट लूट धन जोड़ा।।
माया के वश जो रहते हैं, घोर नर्क में दुख सहते हैं।
कद्रसमय की नजानतेमूर्ख, ज्ञानकी बातये नितकहते हैं।
            समय बड़ा बलवान है इसने,
                               लाखों का दम तोड़ा।।

No comments