loading...

ओशो गंगा। मन्दिर दिया बाल

Share:

शुक्रवार, 16 मार्च 2018

बिरहिनी मंदिर दियना बार—(प्रवचन-02)

जागो सखि, बसंत आ गया—(प्रवचन—दूसरा)
दिनांक 12 जनवरी,1979;
श्री ओशो आश्रमपूना
प्रश्‍नसार :
1—उस परम प्रभु परमात्मा का सत्य नाम क्या है?

2—भगवानसिक्ख-निरंकारी संघर्ष के संबंध में आपका क्या मत हैक्या यह खतरा नहीं है कि जो लोग आपके दर्शन या विचार के साथ असहमत ही नहीं उसे सहने को भी तैयार नहीं हैंवे आपके साथ भी ऐसी ही स्थिति पैदा करें?

3—भगवानअगर मैं अपनी खुद की बात कहूं तो ध्यान के गहरे अनुभव जब मैंने कृष्णमूर्ति या आपका नाम तक न सुना था तब हुए। यह स्वानुभव किसी भी विधि का अभ्यास किए बिना ही हुआ। इसलिए कृष्णमूर्ति जब यह कह रहे हैं कि किसी विधि का अभ्यास मत करोवह सहज ही घटित होता है तब यह बात मुझे स्वाभाविक मालूम होती है। आखिर कृष्णमूर्ति का जोर सतत जागरूकता और केंद्ररहित हो जीवन से सीखना--इस पर तो है हीजिसके फलस्वरूप ध्यान घट सकता है। अगर मैं भूलता नहीं हूंतो आप कृष्णमूर्ति के इस विधान से सहमत नहीं हैं। इसमें मुझे तो काफी अचरज भी होता है। आपका दृष्टिकोण समझने की उम्मीद रखता हूं।

4—भगवान! संन्यास लूं या नहींडर लगता है संसार का। झेल पाऊंगा लोगों का विरोध या नहीं?


पहला प्रश्न:

उस परम प्रभु परमात्मा का सत्य नाम क्या है?

नाम तो सभी असत्य हैं। परमात्मा अनाम है। इसलिए जो भी नाम दिए गए हैंदिए जाएंगेसब कल्पित हैं। उनका उपयोग है जरूरलेकिन उनकी प्रामाणिकता कोई भी नहीं है। जैसे और नाम कल्पित हैंऐसे ही परमात्मा के नाम भी कल्पित हैं।
एक बच्चा पैदा होता हैअनामहम देते हैंउसे नाम। बिना नाम जीवन कठिन होगा। कैसे तो कोई उसे पुकारेगाकैसे कोई पत्र लिखेगाजीवन अड़चन होगी। एक कृत्रिम नाम जीवन में सहयोगी हो जाता हैउसकी उपयोगिता है।
एक वृक्ष को हम कहते हैं पीपलएक को कहते हैं नीमएक को कहते हैं आमनाम तो किसी के भी नहीं हैं। आम को तो पता भी नहीं होगा कि मेरा नाम आम है। पर उपयोगिता हैभेद करने में सुविधा हो जाती है। जहां-जहां भेद करना है वहां वहां नाम की उपयोगिता है। लेकिन परमात्मा तो सारी सत्ता का प्रतीक हैअभेद का प्रतीक हैएक का प्रतीक है। जहां अनेक हैंवहां तो नाम की उपादेयता भी है। लेकिन जहां अनेकता नहीं हैवहां तो बहुत उपादेयता भी नहीं है।
लेकिन फिर भीउसकी खबर देनी होजिनको मिल गया होजिन्होंने जाना होउन्हें दूसरों को जगाना हो तो थोड़ी-सी उपयोगिता हैफिर राम कहोओंकार कहोअल्लाह कहोपर ध्यान रखनाउसका कोई भी नाम नहीं है। उसका कोई नाम हो भी नहीं सकताअनाम को भूल मत जाना। नाम के पीछे अनाम छिपा हैयह स्मरण बना रहे तो नाम का कोई खतरा नहीं है। लेकिन ऐसी भ्रांति न हो जाए कि नाम ही सच हो जाए और अनाम का विस्मरण हो जाए। तो बड़ी चूक हो गई। तो फिर जपते रहना तुम राम-राम फिर करते रहना अल्लाह-अल्लाह। यारी ने कहा न जबान थक गई चिल्लाते-चिल्लातेकुछ मिला नहींकुछ हाथ न लगा। हाथ लगे भी कैसे!
पानी-पानी कहने से प्यास नहीं बुझतीजब तक कि पानी चखो न। चखने की फिक्र करोनाम की फिक्र छोड़ो। स्वाद की चिंता लो और स्वाद मिल गया तो सब मिल गया।
एक अर्थ में उसका कोई भी नाम नहींदूसरे अर्थ मेंवृक्षों से गुजरती हवाएं उसी के नाम का उदघोष करती हैं। सागर की उत्ताल तरंगें उसी के नाम का जप करती हैं। पहाड़ों से उतरते झरने उसको ही तो गुनगुनाते हैं। तुम्हारे हृदय की धड़कनकि तुम्हारे श्वासों की आवाजकिसकी याद कर रही हैतुम्हें पता भी न होतो भी उसी की याद चल रही है। अनेक-अनेक रूपों में उसी का स्मरण हो रहा है। कोई उसे आनंद की तरह स्मरण कर रहा हैकोई उसे प्रेम की तरह स्मरण कर रहा हैकोई उसे सौंदर्य की तरह स्मरण कर रहा है। किसी ने उसकी भनक संगीत में सुनी हैवीणा के तारों में सुनी है।
तुम यहां मेरे पास बैठेउसी की याद के गीत तो सुन रहे होउसी की तो खोज चल रही है! उसकी खोज यानी अपनी खोज--अपने स्वभाव की खोज।
...यही तो गा रहे हैं पेड़
यही सरिता की लहर में कांपता है
यही धारा के प्रपातित बिंदुओं का हास है।
...इसी से
मर्मरित होंगी लताएं
सिहर कर झर जाएंगी कलियां अदेखी
मेघ घन होंगे
बलाकाएं उड़ेंगी झाड़ियों में चिहुंक कर पंछी
उभारे लोम
सहसा बिखर कर उड़ जाएंगे
ओस चमकेगी विकीरित रंग का उल्लास ले
पहली किरण में!
...फैली धुंध में बांधे हुए हैं अखिल संसृति
नियम में शिव के
यही तो नाम...
यही तो नाम--
जिसे उच्चारते ये ओंठ आतुर
झिझक जाते हैं
...पास आओ:
जागरित दो मानसों के संस्फुरण में
नाम वह संगीत बन कर मुखर होता है।
कहां हैं दोनों तुम्हारे हाथ
सम्पुटिता कर के मुझे दे दो:
कोकनद का कोष वह
गुंजरित होगा
नाम से--
उस नाम से...
जहां प्रेम है वहां प्रार्थना है। और जहां प्रार्थना है वहां परमात्मा है। किसी की आंख में प्रीति से झांकोउसी का नाम उभर आएगा। किसी का हाथ प्रेम से हाथ में ले लोउसी का नाम उभर आएगा। ऐसे तो उसका कोई भी नाम नहीं और ऐसे सभी नाम उसके हैं। क्योंकि वही हैअकेला वही हैउसके अतिरिक्त और कोई भी नहीं है। हम सब उसी की लहरें हैंउसी के वृक्ष के पत्ते-फूल...हम सब उसी के अंग...न हम उसके बिना हैं न वह हमारे बिना है। हम भी नहीं हो सकते उसके बिनाअंग भी नहीं हो सकता उसके बिना। अंशी के बिना अंश कैसे हो सके!
और ध्यान रखनादूसरी बात भी भूल मत जाना: अंश के बिना अंशी भी नहीं हो सकता। न तो भक्त के बिना भगवान हैन भगवान के बिना भक्त है। भक्त और भगवान के बीच जो घटता हैवही उसका नाम है। क्या घटता हैकहना कठिन। कभी कहा नहीं गया हैकभी कहा भी न जा सकेगा।...चुपचाप घटता हैमौन सन्नाटे में घटता हैअपूर्व शून्य में घटता है। और जब घट जाता हैतो जीवन में आ गया वसंत! खिल जाते हैं सारे फूलजन्मों-जन्मों जो नहीं खिले थे। गीत झरने लगते हैं जीवन सेजो तुमने कभी कल्पना भी नहीं किए थेजिनके तुम सपने भी नहीं देख सकते थे! तुम्हारा रोआं-रोआं किसी उल्लास सेकिसी उत्सव से भर जाता है--अपरिचितअनजाना उत्सव। लेकिन तलाश उसी की थीखोज उसी की थीटटोलते उसी को थे--अंधेरेलंबी अंधेरी रातों मेंजन्मों-जन्मों मेंन मालूम किन ग्रह-उपग्रहों परकितने-कितने प्रकारों से! नहीं जिसे देखा थाउसी को देखने की लालसा भटकाती थी। नहीं जिसे सुना थाउसी का मधुर रव कान में भर जाएइसके लिए प्राण आतुर थे। नहीं जिसे चखा थाउसी की प्यास लिए चलती थी।
जिस दिन भक्त और भगवान के बीच शून्य का सेतु बनता हैउस दिन मिलन हुआ। उस दिन ही तुम जानोगे कि क्या उसका नाम हैया कि वह अनाम है।
मलय का झोंका बुला गया
खेलते से स्पर्श से
वो रोम-रोम को कंपा गया--
जागोजागो,
जागो सखि वसंत आ गया! जागो!
पीपल की सूखी खाल स्निग्ध हो चली
सिरिस ने रेशम से वेणी बांध ली
नीम के भी बौर में मिठास देश,
हंस उठी है कचनार की कली
टेसुओं की आरती सजा के
बन गयी वधू वनस्थली!
स्नेह भरे बादलों से
व्योम छा गया
जागोजागो,
जागो सखि वसंत आ गया! जागो!
चेत उठी ढीली देह में लहू की धार
बेध गई मानस को दूर की पुकार
गूंज उठा दिग्दिगंत
चीन्ह के दुरंत यह स्वर बार-बार :
सुनो सखि! सुनो बंधु!
प्यार ही में यौवन हैयौवन में प्यार!
आज मधु-दूत निज
गीत गा गया
जागोजागो,
जागो सखि वसंत आ गया! जागो!
मधुमास में ही पहचान पाओगे उसके असली नाम को। क्योंकि उसका नामनाम से हम जो समझते हैंऐसा नहीं है। स्वाद है उसका नाम। अनुभव है उसका नाम। प्राणों की अंतर्तम अनुभूति है उसका नाम।
तो मैं तुमसे कहूं राम उसका नाम है तो झूठ होगामैं कहूं अल्लाह उसका नाम है तो झूठ होगा। ऐसे ये सब नाम भी उसी के हैं। अल्लाह और राम ही नहींकृष्ण और रहीम ही नहींतुमने भी जो नाम रख लिए हैं अपने-अपने बच्चों केअपने पड़ोसियों केये सब नाम भी उसी के हैं। अच्छे-बुरे सभी नाम उसके हैंछोटे-बड़े सभी नाम उसके हैंप्रसिद्ध-अप्रसिद्ध सभी नाम उसके हैं। इसमें तुम विरोधाभास मत देख लेना। जिसका कोई नाम नहीं हैउसी के सभी नाम हो सकते हैं। और सभी जिसके नाम हैंउसका कोई नाम कैसे होगाएक में उसे तुम न बांध पाओगे। बांधने की आतुरता भी क्यों?
चाहते क्या होप्रश्न में तुम्हारी जिज्ञासा क्या हैयही न कि एक नाम तुम्हारी पकड़ में आ जाए तो बैठकर दुहराओकि माला पर जपोकि मंत्र बना लो! मगर उससे तो सिर्फ रसना थकेगीउससे तो सिर्फ जीभ थकेगी। और जीभ पर जो दोहराया गया हैजीभ पर ही रह जाएगाप्राणों तक न पहुंच पाएगा।
इसे खयाल में ले लो: जो परिधि पर हैपरिधि पर ही रह जाता हैकेंद्र पर नहीं पहुंचतायद्यपि जो केंद्र पर है वह परिधि पर भी आ जाता है। जो भीतर हैप्राणों के प्राण में हैवह तो बहेगा और परिधि को भी घेर लेगाआवृत कर लेगालेकिन जो परिधि पर है वह प्राणों में नहीं जा सकता। जो अंतस में है वह तो आचरण बन जाता हैलेकिन जो सिर्फ आचरण में है वह अंतस नहीं बनता है। भीतर से बाहर की तरफ तो यात्रा हैबाहर से भीतर की तरफ कोई यात्रा नहीं है।
तुम नाम जानना चाहते होमैं तुम्हें अनाम देना चाहता हूं।
तुम नाम से तृप्त होना चाहते होमैं तुम्हें स्वाद देना चाहता हूं।
मत पूछो नाममत पूछो पता।
उसी ने तुम्हें घेरा है।
वही है तुम्हारे चारों तरफ।
पीयोखूब-खूब पीयोजी भर कर पीयो!
देखते होचारों तरफ से हवा ने तुम्हें घेरा हैदिखाई तो नहीं पड़ती है! मगर तुम पी रहे हो तो जी रहे हो। मुर्दा भी एक ला कर यहां रख दोवह भी हैउसको भी चारों तरफ से हवा ने घेरा हैलेकिन हवा को पी नहीं रहा हैइसलिए मुर्दा है।
भक्त में और साधारण जन में उतना ही भेद है जितना जीवित और मुर्दे में। साधारण जन चारों तरफ परमात्मा से उतना ही घिरा है जितना भक्तलेकिन भक्त पी रहा हैजी भर कर पी रहा हैश्वास-श्वास में उसी को पी रहा हैरोएं-रोएं को उसी में डूबने दे रहा है। और जो भक्त नहीं है वह भी उसी से घिरा है--उतना ही जितना भक्तलेकिन वह श्वास में उसे भीतर नहीं लेता। भक्त जब श्वास लेता है तो सिर्फ हवा ही भीतर नहीं जातीवह भी भीतर जाता है। भक्त जब भोजन करता है तो अन्न ही भीतर नहीं जाताअन्नं ब्रह्मअन्न के साथ-साथ- ब्रह्म भी भीतर जाता है। भक्त फूल को देखताफूल ही नहीं देखताउस फूल में खिले उस परमात्मा को भी देखता है। भक्त सूरज को उगते देखता हैझुक जाता है। क्योंकि तुम्हें सिर्फ सूरज दिखाई पड़ रहा है उसे उस सूरज की रोशनी में उसकी ही रोशनी दिखाई पड़ रही है। भक्त तो वृक्ष के पास भी झुक जाता हैक्योंकि तुम्हें सिर्फ वृक्ष दिखाई पड़ रहा हैउसे तो वृक्ष के भीतर दौड़ती हुई जो हरित धारा है जीवन कीवह जो प्राण वृक्ष को आंदोलित किए हैजो उसके पत्तों को हरा किए है और जिसने उसके फलों में रस भर दिया है--रसो वै सः! भक्त तो उस परम रस को भी देख रहा है।
तुम भी परमात्मा से घिरे होभक्त भी परमात्मा से घिरा हैइसमें जरा भी भेद नहीं है। परमात्मा की तरफ से जरा भी अन्याय नहीं है। लेकिन तुम हो कि अपने को बंद किए मुर्दे की भांतिश्वास नहीं लेते। फिर पूछते होउसका नाम क्या हैनाम तो हम उसका पूछते हैं जो हम से भिन्न हो। नाम तो हम उसका पूछते हैं जो दूर होजिसका पता-ठिकाना लगाना हो। उसका क्या नाम पूछनाजो श्वासों से भी ज्यादा तुम्हारे पास है। तुम भी अपने इतने पास नहींइतना वह तुम्हारे पास है। उसका नाम क्या पूछना है! खड़े हो सरोवर मेंसरोवर का नाम पूछते हो और प्यास से तड़पे जा रहे हो! पीते क्यों नहीं?

दूसरा प्रश्न:

भगवान! सिक्ख-निरंकारी संघर्ष के संबंध में आपका क्या मत हैक्या यह खतरा नहीं है कि जो लोग आपके दर्शन या विचार के साथ असहमत ही नहींउसे सहने को भी तैयार नहीं हैंवे आपके साथ भी ऐसी ही स्थिति पैदा करें?

किशोरदास! धर्म के साथ संघर्ष का कोई भी संबंध नहीं है। और जहां संघर्ष महत्वपूर्ण हो जाता हैवहां धर्म विलीन हो जाता हैवहां राजनीति अड्डा जमा लेती है। सब झगड़ों के पीछे राजनीति होती है।
ऊपर-ऊपर झगड़ों के नाम कुछ भी हों--हिंदू-मुसलमान का झगड़ा होकि सिक्ख-निरंकारी का झगड़ा होकि ईसाई-यहूदी का झगड़ा हो। ये तो झगड़ों को दिए गए प्यारे-प्यारे आवरण हैंसुंदर-सुंदर आवरण हैं! जैसे खतरनाक तलवार पर किसी ने मखमल चढ़ा दी हैमखमल की म्यान बना दी हैअक्सर तलवारों की म्यानें मखमल की होती हैं। सोना-चांदी भी जड़ सकते होहीरे-जवाहरात भी। तलवारें छिप जाती हैं ऐसेमगर सिर्फ अंधों को छिपती हैंआंख वालों को नहीं छिपतीं।
धर्म के नाम पर खूब राजनीति चलती रही हैचलती हैऔर लगता है आदमी को देखते हुए कि चलती ही रहेगी। और जब धर्म के नाम पर राजनीति चलती है तो बड़ी सुविधा हो जाती है राजनीति को चलने मेंक्योंकि हत्यारे सुंदर मुखौटे लगा लेते हैं। जितना बुरा काम करना हो उतना सुंदर नारा चाहिएउतना ऊंचा झंडा चाहिएरंगीन झंडा चाहिए! आड़ में छिपाना होगा न फिर!
आदमी जंगली हैअभी तक आदमी नहीं हुआ! इसलिए कोई भी बहाना मिल जाएउसका जंगलीपन बाहर निकल आता है। ये सब बहाने हैं! एक बहाना हटा दोदूसरा बहाना ले लेगामगर लड़ाई जारी रहेगीक्योंकि आदमी बिना लड़े नहीं रह सकता!
आदमी अभी उस जगह नहीं आया जहां शांति में आनंद पा सके। अभी तो वैमनस्यद्वेष,र् ईष्याहिंसा--उस में ही उसे थोड़ी त्वराथोड़ा उन्मेष जीवन का मालूम होता हैथोड़ा मजा मालूम होता है। देखते नहींघर से गए हो दवा लेने पत्नी के लिए और राह पर दो आदमी लड़ रहे हैंबस खड़े हो गएभूल ही गए पत्नीभूल गए दवा! दो आदमी लड़ते थेतुम्हें देखने के लिए खड़े हो जाने की क्या जरूरत थीअशोभन है यह। यह तुम्हारी संस्कारशीलता का लक्षण नहीं है।
लड़ना या लड़ते हुओं को देखना एक ही वृति का प्रतीक हैतुम्हें कुछ न कुछ रस आ रहा है। और अगर दो आदमी लड़ते हुए और भीड़ देखती हुईअचानक सहमत हो जाएं कि चलो भाई नहीं लड़ते चलो। तो सारी भीड़ उदास हो जाती है कि नाहक इतनी देर खड़े रहे और कुछ भी न हुआ! इतनी देर व्यर्थ ही खड़े रहे! और मजा ऐसा थाभीड़ में से लोग कह रहे थे--भाईलड़ो मत! क्यों लड़ते होलड़ने में क्या रखा है! भीड़ में से एक-दूसरे को लोग पकड़ भी रहे थे कि कहीं झगड़ा न हो जाए। यह सब ऊपर-ऊपर थाभीतर आकांक्षा थी कि हो ही जाएकि देख ही लें!
अभी भी खून बहता हुआ देखकरतुम्हारे भीतर कोई छिपा हुआ पशु है अचेतन में जो तृप्त होता है। फिर खून किस बहाने बहता हैइसकी फिक्र नहीं--खून बहना चाहिए! तीन हजार साल के इतिहास में आदमी ने पांच हजार युद्ध लड़े हैं। लगता है आदमी यहां जमीन पर युद्ध लड़ने को ही पैदा हुआ है! और कितने-कितने अच्छे नामों पर युद्ध लड़े गए--इस्लाम खतरे में हैकि ईसाइयत खतरे में हैकि मातृभूमि खतरे में हैकि कम्यूनिज्म खतरे में हैकि लोकतंत्र खतरे में हैखतरे ही खतरे हैं सबको! शांति के लिए युद्ध लड़े गए हैंऔर मजा! हम कहते हैंयुद्ध लड़ेंगे तो शांति हो जाएगी। यह तो ऐसा हुआ जैसे किसी को जीवन देने के लिए जहर पिलाओ! किसी को बचाने के लिए उसकी गर्दन काटो! लेकिन यह गणित जारी रहा।
और ऐसा भी नहीं है कि एक मसला हल हुआ हो तो युद्ध समाप्त हुआ। एक मसला हल होता हैहम तत्क्षण दूसरा मसला खड़ा कर लेते हैं! हिंदुस्तान-पाकिस्तान बंटा था तो सोचा था कि चलोअब हिंदू-मुस्लिम के दंगे न होंगे। उनका देश हो गया मुसलमानों का अलगहिंदुस्तान हो गया अलग। हिंदू-मुस्लिम दंगे थोड़े क्षीण भी पड़ेलेकिन नए दंगे शुरू हो गए। हिंदुस्तान में इतनी भाषाएं हैंभाषाओं के नाम पर दंगे शुरू हो गएइतने प्रदेश हैंप्रदेशों के नाम पर दंगे शुरू हो गए। गुजराती और मराठी लड़ेंगे कि बंबई किसका हो! ये तो दोनों ही हिंदू थे। इनमें तो झगड़ा नहीं होना था। ये तो एक ही धर्म को मानते थेएक ही राम कोएक ही कृष्ण को मानते हैं। लेकिन गुजराती और मराठी में झगड़ा हो जाएगा--बंबई किसका होराम और कृष्ण से लेना-देना किसको है--बंबई किसका हो! छोटी-मोटी सीमाओं परकि नर्मदा का जल किस प्रांत को कितना मिलेइस पर झगड़े हो जाएंगे। और नर्मदा को दोनों पूजते हैं। दोनों नर्मदा को पवित्र मानते हैं। लेकिन जब बांटने का सवाल आ गयातो झगड़े खड़े हो जाएंगे। कि एक तहसील इस प्रदेश में रहे कि उस प्रदेश मेंकि एक जिला इस प्रदेश में रहे कि उस प्रदेश में--छुरेबाजी हो जाएगी! कि हिंदी भाषा हो राष्ट्र की भाषाकि कोई और भाषा हो राष्ट्र की भाषा--बस छुरे चल जाएंगे! तुम देखते होएक बहाना छूटता नहीं कि दूसरा बहाना मिल जाता है।
फिर देखापाकिस्तान में क्या हुआबंगाली और पंजाबी मुसलमान लड़ गएजो कभी न लड़े थे! क्योंकि पहले हिंदुओं से लड़ने में निकल जाती थी भीतर की जो पाशविकता है। अब हिंदू तो बचे नहींहिंदू तो उन्होंने साफ ही कर दिए। पाकिस्तान में हिंदू तो बचे नहींउसी दिन उन्होंने खतरा ले लिया। काटने की वृत्ति तो बचीहिंदू न बचे! अब काटने की वृत्ति क्या करेगीपशु तो बचापुराना बहाना हाथ से चला गया! तो पाकिस्तान आपस में लड़ गया। तो पंजाबी मुसलमान ने बंगाली मुसलमान को इस तरह माराजिस तरह न तो कभी हिंदुओं ने मुसलमानों को मारा था न मुसलमानों ने हिंदुओं को मारा था। फिर तुम यह भी मत सोचनाकि इससे कुछ हल होता है। पाकिस्तान बंट गया--दो हिस्से हो गए। पहले हिंदुस्तान बंटा और दो देश हुएफिर पाकिस्तान बंटा और दो देश हो गए।
और फिर जिस आदमी नेमुजीबुर्रहमान ने बंगला को मुक्त कर लिया पाकिस्तान के कब्जे से उसकी क्या गति हुईउसके साथ बंगालियों ने क्या व्यवहार कियाभून डाला! पूरा परिवार--छोटे-छोटे बच्चेदूध मुंहेंबच्चों से लेकर मुजीबुर्रहमान तकसबको एक साथ भून डाला! बंगाली बाबुओं से ऐसी तो आशा न थीलेकिन बंगाली बाबुओं ने ऐसा कर दिखाया! पंजाबियों ने अगर थोड़ी ज्यादती की थीसमझ में आ सकती है बात। पंजाबी थोड़ा उस ढंग का आदमी है। लेकिन बंगाली बाबू...ढीली धोतीकि भाग भी न सकें...भागें तो अपनी ही धोती में फंस कर गिर जाएं! इनको क्या हुआबंगाली हो कि पंजाबीभीतर पशु एक है। बहाने बदल जाते हैंआदमी नहीं बदलता।
किशोरदास! आदमी बदलेगा तो स्थिति बदलेगी। अब बहाने बदलने की बात हम छोड़ दें। बहाने तो पांच हजार साल में बहुत बार बदलेबात वहीं की वहीं बनी रहती है। आदमी को बदलें!
और आदमी के बदलने में सबसे बड़ी कठिनाई क्या हैआदमी क्यों इतनी पशुताइतनी हिंसा और घृणा से भरा हुआ हैमेरे देखेहमने मनुष्य को प्रेम करने की कला नहीं सिखाईइसलिए हमने मनुष्य को प्रेम की हवा नहीं दीइसलिए हमने मनुष्य को प्रेम का स्वाद नहीं दियाइसलिए। जिस व्यक्ति को भी प्रेम का स्वाद मिल जाएउसके जीवन से घृणा अपने-आप विसर्जित हो जाती है। क्योंकि एक ही ऊर्जा हैजो प्रेम बनती है या घृणा बनती है। अगर प्रेम न बन पाए तो घृणा बनती है। एक ही ऊर्जा हैजो निर्माण बनती है और ध्वंस बनती है। निर्माण न बन पाए तो ध्वंस बनती है।
अब तक आदमी हमने जो निर्मित किया है जमीन परउसमें सृजनात्मकता के बीज हम नहीं डाल पाए हैं। इसलिए विध्वंस उसका स्वर है। फिर राष्ट्र के नाम परधर्म के नाम परजाति के नाम परवर्ण के नाम पर विध्वंस प्रकट होता है। जहर हो गई है वही शक्तिजो खिल जाती तो गीत बनती और नाच बनती! जो प्रकट होती तो बांसुरी पर बजतीवही तलवार की धार हो गई है!
मैं यहां कोई नया धर्म नहीं सिखा रहा हूं। धर्म तो जमीन पर बहुत हैं--तीन सौ धर्म हैं। अब इस उपद्रव में और उपद्रव बढ़ाने से क्या होगामैं यहां कोई नया शास्त्र नहीं दे सकता हूं। शास्त्र काफी हैंवेद हैं और कुरान हैं और बाइबिलें हैं और धम्मपद हैं और गुरुग्रंथ हैं और शास्त्र ही शास्त्र हैं!
मैं तो यहां मनुष्य को बदलने का एक नया विज्ञान दे रहा हूं। उस विज्ञान की आधारभूत शिला यही है कि हम मनुष्य को स्वयं से प्रेम करना सिखाएं। यह बात अभी तक नहीं की गई है। तुमसे यह तो कहा गया है कि देश को प्रेम करो। और तुमसे यह भी कहा गया है कि धर्म को प्रेम करो। और तुमसे यह भी कहा गया है कि जरूरत पड़े तो देश के लिए मर जानाधर्म के लिए मर जाना। लेकिन तुमसे यह किसी ने भी नहीं कहा है कि अपने से इतना प्रेम करोकि न तो देश के लिए मरने की तुम्हारी तैयारी हो न धर्म के लिए मरने की तुम्हारी हो। अपने से इतना प्रेम करोकि तुम्हें कोई भी उपद्रवीकोई भी पागल किसी तरह की आत्महत्या के लिए राजी न कर पाए। अपने से इतना प्रेम करो...! तुम परमात्मा की कृति हो!
मगर तुम ऐसे तैयार रहते हो मरने कोजिसका हिसाब नहीं! बहाना मिल जाए कि तुम मरने-मारने को तैयार हो! कारण साफ हैतुम्हारी जिंदगी बेमानी है। तुम्हारी जिंदगी में कोई अर्थवत्ता नहीं है। जिंदगी में कोई ऐसी रसधार नहीं बह रही है कि तुम थोड़े झिझको। जिंदगी इतनी उदास है और जिंदगी इतनी ऊब से भरी है और जिंदगी इतनी बोझिल है कि तुम्हें कोई मौका नहीं मिल जाए मरने-मारने का तो तुम कहते हो कि चलो छुटकारा हुआ। चलो इस बहाने त्याग कर देंशहीद हो जाएं! दिल में कम से कम एक आशा तो रहती है कि जिंदा तो किसी ने पूछा नहीं--शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले! चलो मर कर...चिता पर मेले इकट्ठे होंगे।
मैं तुमसे कह रहा हूं: देश के लिए मत मरनाजाति के लिए मत मरनाधर्म के लिए मत मरना। तुम्हें परमात्मा ने मारने के लिए नहीं पैदा कियानहीं तो पैदा हो क्यों करतातुम्हें परमात्मा ने पैदा किया है...जीना! फूलों के लिए जीनाचांदत्तारों के लिए जीनाअपने लिए जीनालोगों के लिए जीना। जीवन परम मूल्य है और जीवन किसी भी चीज पर निछावर नहीं किया जा सकता। जीवन पर सब कुछ निछावर हैऔर जीवन किसी चीज पर निछावर नहीं किया जा सकता। ऐसी आधार शिला बदलनी होगी आदमी की।
लेकिन लोगों को लगता हैमैं स्वार्थ सिखा रहा हूं। चलो यही सहीवह शब्द कुछ बहुत बुरा नहीं हैशब्द अर्थपूर्ण है। स्वार्थ का अर्थ होता है--स्व के निमित्तआत्मा के निमित्त। शब्द कुछ बुरा नहीं हैप्यारा है! स्वार्थ सहीमैं स्वार्थ सिखाता हूं। परार्थ तो बहुत सिखाया गया हैउसका परिणाम क्या हुआ हैउसका परिणाम यह हुआ है कि तुम अपने को प्रेम नहीं कर पाएतो तुम दूसरे को भी प्रेम नहीं कर पाए। प्रेम का दीया पहले तुम्हारे भीतर जलेतो ही उसकी रोशनी दूसरों तक पहुंचेगी। लेकिन तुम्हें सिखाया गया है--मां-बाप को प्रेम करोपत्नी को प्रेम करोपति को प्रेम करोबेटों को प्रेम करो। तुमसे कोई यह कहता ही नहीं कि अपने को प्रेम करो। अपने से तो घृणा करो। अपनी तो निंदा करो--मैं तो पापी हूं। मैं तो धूल हूं आपके चरणों की! मैं तो कुछ भी नहीं! अपने को घृणा करोअपना तिरस्कार करो और सबको प्रेम करो। अब थोड़ा सोचोइसका परिणाम क्या होगाहर व्यक्ति अपना तिरस्कार कर रहा है और हर व्यक्ति अपनी निंदा कर रहा है। सारा जगत आत्मनिंदा से भर गया है।
और जहां आत्मनिंदा हैवहां आत्मा के फूल नहीं खिलते। सोचो कि गुलाब की झाड़ी अगर आत्मनिंदा से भर जाए तो क्या खाक फूल खिलेंगे! फूल तो खिलते हैं अहोभाव मेंआत्मनिंदा में नहीं। थोड़ा सोचोचांद आत्मनिंदा से भर जाए तो क्या खाक चमकेगा! चमक तो होती है आत्म गरिमा मेंगौरव मेंआत्मसम्मान में। लेकिन तुम्हें सिखाया गया है--घृणा करो अपने को। तुम पापी हो! जन्मों-जन्मों के पाप तुम्हारे पीछे हैं। और तुम्हें डराया गया है--अपने को प्रेम मत करनावह स्वार्थ है और स्वार्थ बड़े से बड़ा पाप है।
मैं तुमसे कहता हूं: स्वार्थ ही परार्थ की आधारशिला है। जिस व्यक्ति ने अपने को प्रेम कियाअपना सम्मान कियावह किसी का भी अपमान न कर सकेगा। क्योंकि जिसने अपना सम्मान कियाउसे दिखाई पड़ना शुरू हो जाता है कि जो जीवन मुझमें है वही सबमें हैजो ज्योति इस दीए में जली हैवही ज्योति सब दीयों में जली है! और जिसने अपनी गरिमा पहचानीउसे सारे जगत की महिमा का अनुभव शुरू हो जाता है।
मैं यहां कोई नया धर्म नहीं दे रहा हूं। मैं तो यहां जीवन की एक नयी शैली दे रहा हूं। एक नए मनुष्य की आधार शिला रख रहा हूं। पुराना ढंग का मनुष्य असफल हो गया हैएक नए ढंग की मनुष्यता चाहिए।
इसलिए तुम मुझसे यह मत पूछो किशोर दासकि सिक्ख-निरंकारी संघर्ष के संबंध में आपका क्या मत हैसभी संघर्षों के संबंध में मेरा यही मत हैकि वे सब गलत आदमी के आधार पर पैदा हुए हैं। यह प्रश्न सिक्खऔर निरंकारी का नहीं हैन हिंदू-मुसलमान का हैन ईसाई-यहूदी का हैन जैन-बौद्ध का है। अगर तुमने इसको ऐसे ऊपर-ऊपर पकड़ा तो लक्षण ही पकड़ोगेबीमारी पकड़ में न आएगी। और लक्षण के इलाज से बीमारी का इलाज नहीं होता है। आदमी गलत है। वह सिक्ख होनिरंकारी होहिंदू होमुसलमान होजैन होबौद्ध होइससे कुछ फर्क नहीं पड़ता--आदमी गलत है!
और हमें एक नई आदमी की व्यवस्था करनी है। और आदमी की बुनियादी गलती यही है--आत्मगौरव का बोध नहीं है। मेरे भीतर कौन छिपा हैइसका कुछ अनुभव नहीं है। मैं तुमसे कहना चाहता हूं: तुम पापी नहीं होतुम परमात्मा हो! इससे तुम जरा भी कम नहीं हो। तुम परमात्मा की अनूठी कृति हो। याद रखना मेरे शब्द--अनूठी कृति! क्योंकि तुम जैसा व्यक्ति न तो उसने पहले कभी बनाया और न फिर कभी बनाएगा। तुम बिलकुल अकेले होतुम बेजोड़ हो! तुम किसी की कार्बन कापी नहीं होतुम मौलिक हो। परमात्मा ने तुम्हारा गीत बस पहली बार लिखा है और आखिरी बार लिखा है। और अगर तुमने यह गीत न गुनगुनायातो यह गुह्य गीत बिना गाया रह जाएगा। और तुम ही इसे गुनगुना सकते होदूसरा नहीं।
आत्मसम्मान करोआत्मगौरव करो। परमात्मा की इस अनोखी भेंट के लिएजो तुम्हें मिली हैधन्यवाद दो! नाचो! इसी नाच से प्रार्थना पैदा होती है। और इसी गहरे आत्मानुभव सेऔर मनुष्यों के प्रति और पशुओं के प्रति और वृक्षों के प्रतिजहां-जहां जीवन है--ये सब जीवन के अलग-अलग ढंगअभिव्यक्तियां हैं--वहां-वहां तुम्हें परमात्मा की छवि की धीरे-धीरे झलकधीरे-धीरे अनुभवउसकी पगध्वनि सुनाई पड़ने लगती है।
मेरा संन्यासी न तो हिंदू है न मुसलमान है न ईसाई है न जैन है न सिख है न निरंकारी है। मेरा संन्यासी एक नए ढंग का आदमी हैजो अपने प्रेम में तल्लीन हैजो स्वयं को प्रेम करने की दिशा में गतिमान है। अभी तो स्वार्थी लगेगाक्योंकि तुम्हारी पुरानी जो व्याख्या हैवह व्याख्या खूब जड़ जमा कर बैठी है।
लेकिन अगर यह संन्यासीयह रंग जमीन पर फैल सकातो तुम पाओगेइसी स्वार्थ से ऐसे परार्थ के फूल खिलेंगेजिनकी तुम कल्पना भी नहीं कर सकते थे! क्योंकि तुमने सदा स्वार्थ और परार्थ को विरोधी समझा हैवे विरोधी नहीं हैं। स्वार्थ की जड़ों पर ही परार्थ के फूल लगते हैं। वे परिपूरक हैं।
और हम मनुष्य कोयह जीवन गलत हैऐसा सिखाते रहे हैंसदियों-सदियों से! ऐसा सिखाते रहे हैं कि तुम्हें जीवन मिला हैतुम्हारे पापों के दंड के लिए! जरा सोचो तोअगर जीवन पापों के दंड के लिए मिला हैतो दो कौड़ी का है! इसका मूल्य क्याले लो तो मूल्य नहीं हैदे दो तो मूल्य नहीं है!
मैं तुमसे कहना चाहता हूं: तुम्हारे पापों का दंड नहीं है जीवनतुम्हारे पुण्यों का पुरस्कार है। और तब पूरी दृष्टि बदलेगी। इसलिए नहीं कि तुमने बुरे काम लिए थेइसलिए तुम जन्मे हो। तुमने कुछ सुंदर किया होगा। और परमात्मा ने तुम्हें फिर भेजा हैकि तुम और सुंदर करोऔर सुंदरतम!
रवींद्रनाथ ने मरते समय प्रार्थना जो अंतिम की थीवह प्रीतिकर है। प्रार्थना की थी कि हे प्रभुअगर मैंने कुछ भी ऐसा जीवन में किया हो जो तेरे मन भाया होतो मुझ बार-बार जीवन में भेज देना।
लेकिन तुम्हारे तथाकथित साधु-संन्यासी प्रार्थना एक ही करते हैं कि हे प्रभुआवागमन से कैसे छुटकारा होऔर जब आवागमन से छुटकारे की प्रार्थना चल रही होतो तुम कैसे जीवन के प्रति धन्यवादजीवन के प्रति कैसे अहोभावकैसे कृतज्ञता अनुभव करोगेजीवन तो कारागृह है--तुम्हारी भाषा--में। इससे तो जैसे जल्दी छुटकारा हो जाएउतना अच्छा! अब कारागृह में कोई फूल तो नहीं उगाताकारागृह को कोई सजाता तो नहीं. कारागृह में कोई वीणा तो नहीं बजाताकारागृह में तो लोग प्रतीक्षा करते हैं कि कितने जल्दी छूट जाएंकिसी भी तरह बाहर निकल जाएं।
मैं तुमसे कहना चाहता: यह संसार कारागृह नहीं है। यह संसार परमात्मा की अभिव्यक्ति है। यह संसार परमात्मा से भिन्न नहीं हैविपरीत तो बिलकुल नहीं है। कहीं चित्रकार से विपरीत होता है उसका चित्रऔर कहीं संगीतज्ञ से विपरीत होता है उसका संगीतऔर कहीं नर्तक से विपरीत होता है उसका नृत्यऔर अगर तुम चित्र की निंदा करोगेतो क्या तुम सोचते हो कि चित्र की निंदा करके तुम चित्रकार की प्रशंसा कर रहे होचित्र की निंदा में चित्रकार की निंदा हो गई। चित्र की प्रशंसा में चित्रकार की प्रशंसा होती है।
तुम्हारे अब तक के तथाकथित पंडित-पुरोहित तुम्हें जीवन-निषेध सिखाते रहे हैंजीवन-विरोध सिखाते रहे हैं। उन्होंने तुम्हें नहीं का भावनकार का भाव तुम्हारे हृदय में भर दिया है। और नकार मृत्यु हैजीवन नहीं। नकार में सड़ सकते होखिल नहीं सकते। नकार जहर हैअमृत नहीं।
मैं तुम्हें जीवन का विधेय देता हूं। मैं सिखाता हूं जीवन का स्वीकार। यह जीवन परमात्मा की अनुपम भेंट है। न तो इसे तोड़नान इसे नष्ट करना और न इसे किसी क्षुद्र मानवीय धारणा पर समर्पित करना। मंदिर आदमियों के बनाए हुए हैंजल जाएंजल जाएंआदमियों को मरने की जरूरत नहीं है। फिर मंदिर बना लेंगे। मस्जिदें आदमी की बनाई हुई हैं। किताबें आदमी की बनाई हुई हैंआदमी भर आदमी का बनाया हुआ नहीं है। इसलिए आदमी को किसी भी चीज पर न्योछावर नहीं किया जा सकता। आदमी का मूल्य परम है। आदमी के ऊपर कुछ भी नहीं है।
चंडीदास का प्रसिद्ध वचन है: साबार ऊपर मनुष सत्यताहार ऊपर नाहीं।  सबसे ऊपर है मनुष्य का सत्यउसके ऊपर कुछ भी नहीं। साबार ऊपर मानुष सत्य...।
सबसे ऊपर है मनुष्य का सत्यइसकी उदघोषणा करो! चढ़ जाओ मकानों की मुंडेरों परगांव-गांवद्वार-द्वारघर-घर इसकी घोषणा करो: साबार ऊपर मानुष सत्य! मनुष्य के सत्य से ऊपर कोई और सत्य नहीं है। तब बदलेगी कुछ बात। यह आवागमन से छूटने की बकवासयह संसार को पाप और पाप का फल कहने की बकवासलोगों के जीवन को विषाक्त करने की चेष्टा--ये आधार हैं तुम्हारी बीमारी के।
लक्षणों की मैं बात नहीं करता। सिक्ख और निरंकारीहिंदू और मुसलमानजैन और बौद्ध--ये तो लक्षण हैं। ये तो कोई भी बहाने खोज रहे हैं। ये तो खूंटियां हैं! मैं तो तुम्हारे कोट की बात कर रहा हूं जो तुम खूंटी पर टांगते होखूंटियों की बात नहीं कर रहा। खूंटी तो तुम्हें एक नहीं मिलेगीतुम दूसरी जगह टांग दोगे। खूंटी बिलकुल न मिलेगी तो लोग दरवाजों पर टांग देते हैंखिड़कियों पर टांग देते हैं। मगर कोट है तो कहीं न कहीं टांगेंगे। जब तक मनुष्य जैसा अब तक रहा है ऐसा ही रहेगातब तक ये उपद्रव जारी रहेंगे। मनुष्य को बदलना है।
इसलिए मैं गौण लक्षणों की चिंता नहीं करता। कोई असली चिकित्सक लक्षणों की चिंता नहीं करतानकली चिकित्सक लक्षणों की चिंता करते हैं। जैसे किसी आदमी को बुखार चढ़ा है। नकली चिकित्सक होगा--वह कहेगाइसका शरीर गरम हो गया हैठंडे पानी में डाल दोकि इसको फव्वारे के नीचे बिठा दो। शरीर गरम हो रहा हैठंडा करना जरूरी है। शरीर तो ठंडा होगा कि नहींयह मरीज ही ठंडा कर देगा।
बुखार तो लक्षण हैबीमारी भीतर है। इस आदमी के भीतर तुमुल युद्ध छिड़ा है। इसके भीतर घर्षण हो रहा है! इसके भीतर स्वास्थ्य की और बीमारी की शक्तियों में गृह-युद्ध हो रहा है! उस गृह-युद्ध के कारण शरीर उत्तप्त हो गया है। उस गृह-युद्ध को शांत करना होगा। शमन भीतर करना होगाबाहर आपने-आप ज्वर समाप्त हो जाएगा। ज्वर को ठंडा करने की जरूरत नहीं है। ज्वर की जड़ को काटने की जरूरत है। पत्ते मत काटोशाखाएं मत काटोइससे कुछ भी न होगा। जड़ काटो। मैं जड़ को काटने में लगा हूं।
और किशोर दासयह तुम ठीक कहते हो--क्या यह खतरा नहीं हैकि जो लोग आपके दर्शन या विचार के साथ सहमत नहीं हैंउसे सहने को भी तैयार नहीं हैंवे आपके साथ भी ऐसी ही स्थिति पैदा करेंयह खतरा है। खतरा क्याकरीब-करीब यह बात सुनिश्चित हैहोनी ही है। यह होनी इसलिए है कि यही सदा होती रही है।
जीसस को लोगों ने सूली दीमंसूर को काट डाला। सुकरात को जहर पिला दिया। इनका कसूर क्या थाइनका एक ही कसूर था कि ये आदमी को स्वस्थ करने की चेष्टा में संलग्न थे! और आदमी अपनी बीमारियों से इतना घिर गया है और अपनी बीमारियों को ही मानने लगा है कि यही मैं हूंकि जब कोई उसकी बीमारी छीनता है तो वह नाराज होता है। तुम अपनी जंजीरों को ही समझने लगे हो तुम्हारे आभूषण हैं! और जब कोई तुम्हारी जंजीरें छीनता हैतो तुम समझते हो लुटेरा है। तुम उससे बदला लेने लगते हो।
दुर्भाग्य है यह। अगर यह दुर्भाग्य न घटा होताअगर जीसस को सूली न लगी होतीसुकरात को जहर न दिया गया होतामंसूर के हाथ-पैर न काटे गए होते तो यह दुनिया दूसरी होती। ये सिक्ख और निरंकारीयों के झगड़े न होते। ये हिंदू-मुसलमान एक-दूसरे की गर्दनें न काटते। यह आदमी दूसरा होता। यह जमीन स्वर्ग हो गई होती! लेकिन इस जमीन को जो लोग भी स्वर्ग बना सकते थेउनके साथ ही हमने दर्ुव्यवहार किया है।
इसलिए इसमें कुछ आश्चर्य नहीं। यह हो सकता है। मगर यह इकतरफा होगा। इकतरफा होगाइसका अर्थ यह है कि हमारी तरफ से कोई झगड़ा नहीं है किसी से। झगड़ा अगर होगा तो इकतरफा होगा। इकतरफा ही चल रहा है।
कल ही मैंने एक पत्रिका में पढ़ापत्रिका में सुझाव दिया गया है सरकार कोकि मुझे मृत्यु-दंड दे देना चाहिएइससे कम नहीं। क्योंकि मेरे जैसा आदमी जिंदा रहेयह खतरनाक है। और मृत्यु-दंड इसलिए दे देना चाहिएताकि आगे फिर कभी कोई आदमी इस तरह की दुबारा हिम्मत न कर सके।
मैं समझ पाता हूं कि अड़चन कहां है। इससे मैं नाराज नहीं हूं। इससे मुझ में सिर्फ करुणा पैदा होती है। यह स्वाभाविक है। लोग बीमारियों के आदी हो गए हैं। सदियों-सदियों से बीमारियों में रहे हैंबीमारियों से तादात्म्य हो गया है। और मैं उनकी बीमारियों की जड़ पर चोट कर रहा हूं। अड़चन तो आएगीकठिनाई तो होगी। मगर यह इकतरफा होगी।
हम तो अपने गीत गाते रहेंगे और नाचते रहेंगे और गुनगुनाते रहेंगे। लोगों की जो मर्जी हो वे करें। लोगों को जैसा ठीक लगे वैसा करें। हमारी तरफ से कोई संघर्ष नहीं है। हमारी तरफ से कोई प्रतिकार नहीं है। अगर यही होना है तो यही होगा। लेकिन एक बात एक पत्थर पर खींची गई लकीर की तरह रह जाएगी कि कुछ लोग बिना लड़ेनाचते हुएगीत गाते हुए भी मर सकते हैं! जीवन से हमारा प्रेम इतना है कि हम मृत्यु को भी उत्सव बना लेंगे! प्रत्युत्तर नहीं होगा। प्रत्युत्तर क्या हैहमारा प्रत्युत्तर यही है कि हम मृत्यु को उत्सव बना लेंगे!
मगर हम किसी से लड़ने को उत्सुक नहीं हैं। लड़ने की जड़ काटना चाहते हैंतो लड़ने को उत्सुक कैसे हो सकते हैंयह तो फिर वही पुरानी कहानी होगी। हम किसी को मिटाने में उत्सुक नहीं हैंहांबीमारी मिटाने में उत्सुक हैं।
और इसलिए एक और आश्चर्य की बात किशोर दास--सिक्खों को तकलीफ होगी निरहंकारियों सेनिरहंकारियों को तकलीफ होगी सिक्खों सेबाकी मुल्क में किसी को कोई अड़चन नहीं है। हिंदुओं को अड़चन होगी मुसलमानों सेमुसलमानों को अड़चन होगी हिंदुओं सेबाकी किसी को अड़चन नहीं है। मेरा मामला तो थोड़ा भिन्न है। हिंदू को भी मुझसे अड़चन हैमुसलमानों को भी मुझसे अड़चन हैईसाई को भी मुझसे अड़चन हैजैन को भी मुझसे अड़चन है। मेरे साथ सभी को अड़चन हैक्योंकि मैं पत्ते नहीं काट रहा हूंमैं जड़ काट रहा हूं। अगर तुम एक पत्ता काट रहे होतो बाकी पत्ते कहेंगे--अच्छा हैकटने दोहमें क्या लेना-देना! शायद खुश ही होंगे कि जितना रस इस पत्ते को मिलता थाअब हमको मिल जाएगा! पास-पड़ोस के पत्ते कहेंगेहम तो पहले से ही चाहते थे यह खत्म हो। लेकिन मैं जड़ काट रहा हूं। इसलिए सारे पत्ते मेरे खिलाफ होंगे। और सारे पत्ते मेरी खिलाफत में साथ हो जाएंगे।
जीसस को यहूदियों ने मारा थामंसूर को मुसलमानों ने। अगर मैं कभी मारा गया तो यह एक नई कहानी होगीएक नई शुरुआत होगीमुझे मारने वाले में सारे लोग सम्मिलित होंगे! यह सौभाग्य की बात भी होगीजिसके खिलाफ सारे लोग हों जरूर वह कोई जड़ की बात कर रहा होगा--ऐसी जड़ कीजिसके काटने से सब कटते हैं!
मैं मौलिक रूपांतरण की बात कर रहा हूं। और सिर्फ बात ही नहीं कर रहा हूंउस नए आदमी को पैदा करने की चेष्टा में लगा हूं। यह कोई शास्त्रार्थ नहीं है जो मैं चला रहा हूं। शास्त्रार्थ में मेरा रस नहीं है। मैं तो नया आदमी पैदा करने में लगा हूं। वही सबूत होगावही गवाह होगा कि मैं जो कहता हूं वह हो सकता है या नहींक्या एक ऐसा व्यक्ति पैदा किया जा सकता हैजो हिंदू न होमुसलमान न होईसाई न होभारतीय न होपाकिस्तानी न होजापानी न होचीनी न हो?...किया जा सकता है! उसी का प्रयोग चल रहा है।
मेरा संन्यासी विश्व का नागरिक है। उसकी कोई और राष्ट्रीय मान्यता नहीं है। उसका कोई चर्च नहीं हैकोई संप्रदाय नहीं है। वह समस्त चर्चों और संप्रदायों से मुक्त व्यक्ति है।
और मेरा संन्यासी जीवन को दंड नहीं मानता हैअनुग्रह मानता है। और मेरा संन्यासी आवागमन से मुक्त नहीं हो जाना चाहता है।
मेरा संन्यासी अपनी कोई चाह नहीं रखता हैपरमात्मा जैसे जिलाए उसमें राजी है--जो उसकी मर्जी!
और मेरा संन्यासी जीवन के किन्हीं भी अंगों का तिरस्कार नहीं करता है। मेरा संन्यासी जीवन की समग्रता को स्वीकार करता है और समग्रता को जीने की चेष्टा करता है। मेरा संन्यासी चेष्टा में संलग्न है कि उसके भीतर कोई भी अंग निषिद्ध न हो। क्योंकि जो भी अंग हम निषिद्ध करते हैंवह अंग बदला लेता है। अगर कामवासना का निषेध करोगे तो कामवासना बदला लेगीतुम्हारे चित्त को कामवासना ही कामवासना से भर देगी। अगर तुम क्रोध को दबाओगे तो तुम्हारे भीतर क्रोध रोएं-रोएं में समा जाएगा। अगर तुम शरीर का दमन करोगे तो तुम यह मत सोचना कि तुम आत्मवादी हो जाओगेतुमसे ज्यादा शरीरवादी खोजना मुश्किल हो जाएगा। अगर तुम बाहर के जगत को इनकार करके हिमालय की गुफा में भाग जाना चाहोगेतो हिमालय की गुफा में बैठकर भी तुम बाहर के जगत का ही चिंतन-मनन करोगे।
मैं पूरे मनुष्य में भरोसा करता हूं। बाहर भी अपना हैभीतर भी अपना है। बाजार भी अपना है और मंदिर भी अपना है। धन भी अपना है और ध्यान भी अपना है। प्रेम में भी डूबो और समाधि को भी मत भूलो। दोनों पंखों को एक साथ सम्हाल लेना है।
और जीवन में जो भी परमात्मा ने दिया है--क्रोध हो कि लोभ होकि काम हो कि अहंकार हो--इन सभी का रूपांतरण हो सकता है। क्रोध का जब रूपांतरण होता है तो करुणा निर्मित होती है। और अहंकार का जब रूपांतरण होता है तो आत्मभाव पैदा होता है। और काम का जब रूपांतरण होता है तो ब्रह्मचर्य का जन्म होता है। इनमें से कोई भी ऊर्जा निषेध करने के लिए नहीं है। ये सारी ऊर्जाएं शुद्ध करने के लिए हैं इनका इनकार नहींइनका परिष्कार...।
तो निश्चित ही किशोर दास तुम्हारी चिंता ठीक है। ऐसा हो सकता है। लेकिन उससे हमें कोई चिंता नहीं है। न होगा तो समझना कि चमत्कार हुआ! न होगा तो ही हम चकित होंगे। होना तो सुनिश्चित ही है--देर अबेर!
लेकिन फिर भी हम मनुष्य जाति के लिए एक नए प्रयोग की संभावना को वास्तविक करके छोड़ जाएंगे। एक प्रयोग को प्राण दे जाएंगे। और यह प्रयोग अगर थोड़े-से लोगों में भी सफल हो गया तो मनुष्य का भविष्य का इतिहास एकदम भिन्न होगा।
अब तक का धर्म अधूरा-अधूरा थाअंतर्मुखी था। इसलिए जिन देशों ने धार्मिक होने की चेष्टा कीवहां विज्ञान पैदा नहीं हुआ। अंतर्मुखी व्यक्ति कैसे विज्ञान को जन्म देतुम अगर गरीब हो तो तुम्हारे धर्म के कारण गरीब हो। यह देश अगर भूखा मर रहा हैतो धन्यवाद दो तुम्हारे साधु-संतों-महात्माओं को! उनकी कृपा से! क्योंकि विज्ञान जन्में कैसेविज्ञान के लिए बहिर्मुखी होना जरूरी है। विज्ञान का अर्थ ही होता है--बाहर जो है उसका निरीक्षणगहरा निरीक्षणगहरा अवलोकन--पदार्थ का अवलोकन। और तुम्हारे साधु-संत कहते रहे--भइयापदार्थ तो माया है। माया का कहीं कोई निरीक्षण करता हैहै ही नहीं। ब्रह्म सत्यजगत मिथ्या। जगत है ही नहीं। जो है ही नहींउसका विज्ञान कैसे बनेगाऔर जो है ही नहींउसमें उत्सुकता क्या लेनी?
पश्चिम के लोगों ने कहा कि ब्रह्म मिथ्याजगत सत्य। तो उन्होंने विज्ञान तो निर्मित कर लियालेकिन ध्यान खो गया। विज्ञान तो खूब फलाधन का अंबार लगा गयालेकिन भीतर आदमी बिलकुल दरिद्र हो गया।
मैं तुमसे क्या कहता हूंमैं कहता हूं: ब्रह्म सत्यजगत सत्य। मैं कहता हूं: दोनों सत्य हैं। दोनों एक ही सत्य के दो पहलू हैं। एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। उनमें कोई भी असत्य नहीं है। न तो मैं कार्ल माक्र्स से राजी हूंजो कहता है कि जगत सत्यब्रह्म मिथ्या: न मैं शंकराचार्य से राजी हूंजो कहते हैं कि ब्रह्म सत्यजगत मिथ्या। मेरी उदघोषणा तो है: दोनों सत्य हैं। जगत भी सत्यब्रह्म भी सत्य। जगत है ब्रह्म की देहब्रह्म है जगत का प्राण। दोनों साथ-साथ हैं। और दोनों हैंइसलिए जीवन अति सुंदर है!
भविष्य का मनुष्य वैज्ञानिक और धार्मिक साथ-साथ होगाधार्मिक और वैज्ञानिक साथ-साथ होगा। उस धर्म और विज्ञान के समन्वय को मैं पैदा करने की कोशिश कर रहा हूं।
इसलिए और भी आश्चर्य की बात: धार्मिक ही मेरा विरोध नहीं करेंगेअधार्मिक भी मेरा विरोध करेंगे। अध्यात्मवादी ही विरोध नहीं करेंगेपदार्थवादी भी विरोध करेंगे। क्योंक्योंकि उनको लगता है कि मैं परमात्मा को बीच में ला रहा हूं--जो नहीं लाना चाहिएपदार्थ पर्याप्त है। अध्यात्मवादी को लगता है कि मैं पदार्थ को क्यों बीच में ला रहा हूंपरमात्मा पर्याप्त है। और मैं कहता हूं: तुम निर्णय न करो कि क्या पर्याप्त हैसिर्फ निरीक्षण करोदोनों मौजूद हैं। दोनों जरूरी हैं। दोनों अपरिहार्य अंग हैं। और दोनों की मौजूदगी से अस्तित्व में वैविध्य हैसौंदर्य हैगरिमा हैमहिमा है।
थोड़े से फूल बो जाना हैजितनी देर मौका मिले थोड़े से फूल बो जाना है। फूल लोग बो ही नहीं पाते। जिनको तुम बहुत अच्छे-अच्छे लोग कहते होवे भी ज्यादा से ज्यादा इतना ही कर पाते हैं कि कांटे न बोएंबस। तुम्हारा संत जो हैवह कांटे नहीं बोता। मेरे संत की जो धारणा है वह फूल बोने की धारणा है। कांटे नहीं बोना नकारात्मक हैपर्याप्त नहीं। तुमने बगीचे में कांटे नहीं बोएइससे मत सोचना कि फूल खिलेंगे। कांटे तो नहीं बोने हैं निश्चितफूल बोने हैं।
मेरा किसी से कुछ विरोध नहीं है। इसलिए सारे धर्मों के शास्त्रों पर बोल रहा हूंताकि उनमें जो भी सुंदर हैनया मनुष्य उसे आत्मसात कर ले। जो भी सुंदर हैजो भी श्रेष्ठ हैवह नए मनुष्य की श्वासों में समा जाए! मेरा संन्यासी हिंदू नहींमुसलमान नहींईसाई नहीं। लेकिन मैं बाइबिल पर बोल रहा हूंताकि बाइबिल में जो भी श्रेष्ठ हैजो भी सुंदर है...और सभी सुंदर नहीं हैसभी श्रेष्ठ नहीं है। वेद में जो भी सुंदर हैश्रेष्ठ है--और ध्यान रखनासभी सुंदर नहीं हैसभी श्रेष्ठ नहीं है। क्योंकि वेद किसी एक व्यक्ति के लिखे हुए नहीं हैंन बाइबिल किसी एक व्यक्ति की लिखी हुई हैन मालूम कितने लोगों ने लिखे हैंन मालूम कितने लोगों के हाथ लगे हैं! ऐसे लोगों की भी पंक्तियां उनमें हैंजो परमज्ञान को उपलब्ध हुए थे और ऐसे लोगों की भीजो कोरे पंडित थे। इसलिए छांट रहा हूंउसमें जो भी सुंदर है। फिर किसी दिशा से आता हो--फिर जरथुस्त्र से आता हो कि लाओत्सु सेकि चीन से आता हो कि ईरान से--जहां से भी आता होसारी मनुष्य जाति की संपदा हमारी है। उसमें जो-जो फूल हैंचुन लेने हैं और एक गुलदस्ता तुम्हें दे जा रहा हूं!
लेकिन लोग उसमें नाराज होने वाले हैंक्योंकि जो मैं छोड़ दूंगाजो मैं नहीं चुनूंगावही उनकी अड़चन होगी। कुछ बातें मैं नहीं चुन सकता हूं। क्योंकि वे बातें परमज्ञान से उदभूत नहीं हुई हैं। या अगर परमज्ञानियों ने भी नहीं कही हैं तो सामयिक थींउनका मूल्य समय के साथ समाप्त हो गया। उनका कोई शाश्वत मूल्य नहीं है। तो जो भी सनातन हैशाश्वत है--एस धम्मो सनंतनो--उस सबका सार-निचोड़उस सबको इत्र की तरह तुम्हें भेंट कर रहा हूं!
इसमें बहुत नाराजगियां होंगीबहुत विरोध होंगे। लेकिन हमारा किसी से विरोध नहीं हैहमारी किसी से नाराजगी नहीं है। हम किसी के खिलाफ नहीं लड़ रहे हैं। मगर फिर भी यह आघात जड़ पर हैइसलिए सभी पत्ते नाराज हो जानेवाले हैं।
किशोर दास! तुम्हारी चिंता तो उचित हैलेकिन इससे बचने का कोई उपाय नहीं। ऐसी दुनिया है। और जैसी दुनिया हैउसके साथ काम करना है।
समझौता नहीं होगा। समझौते कर-करके ही यह दुनिया अब तक ऐसी बनी रही है। मेरी दृष्टि में कोई समझौता नहीं है। वही कहूंगाजैसा है। वही कहूंगाजैसा मुझे दिखाई पड़ता है। फिर जो भी उसका परिणाम होता हैवह शुभ है। उस परिणाम के लिए भी परमात्मा को धन्यवाद देना है।

तीसरा प्रश्न:

भगवान! अगर मैं अपनी खुद की बात कहूं तो ध्यान के गहरे अनुभवजब मैंने कृष्णमूर्ति या आपका नाम तक न सुना थातब हुए। यह स्वानुभव किसी भी विधि का अभ्यास किए बिना ही हुआ। इसलिए कृष्णमूर्ति जब यह कह रहे हैं कि किसी विधि का अभ्यास मत करोवह सहज ही घटित होता हैतब यह बात मुझे स्वाभाविक मालूम होती है। आखिर कृष्णमूर्ति का जोर सतत जागरूकता और केंद्ररहित हो जीवन से ही सीखना इस पर तो है हीजिसके फलस्वरूप ध्यान घट सकता है। अगर मैं भूलता नहीं हूंतो आप कृष्णमूर्ति के इस विधान से सहमत नहीं हैं। इससे मुझे तो काफी अचरज भी होता है। आपका दृष्टिकोण समझने की उम्मीद रखता हूं।

निपुण शास्त्री! पहली तो बात कि ध्यान के गहरे अनुभव अगर कृष्णमूर्ति और मुझे सुनने के पहले हुए थे तो मुझे और कृष्णमूर्ति को सुनने की जरूरत क्या हैप्रयोजन क्या हैउन ध्यान के गहरे अनुभवों को और गहराओ। उस स्वानुभव में और उतरो। बहुत गहरे न हुए होंगे अनुभवकहीं कोई कोर-कमी रह गयी होगी। इसीलिए तलाश शुरू हुई। और अब तो समझ आ गईअब भी मुझे सुनने आए होअब भी पूछ रहे हो!
पूछना संदेह का सूचक है। तुम्हें अपने अनुभवों पर भरोसा नहीं मालूम होती। कहीं दूर गहरे में संदेह छिपा है कि पता नहीं ध्यान के अनुभव थे वे या मन की ही कल्पनाएं थीं! और क्या अनुभव हुआ थाक्योंकि अगर सच समझो तो ध्यान का कोई अनुभव नहीं होता। जब सब अनुभव समाप्त हो जाते हैंतब जो शेष रह जाता है उसका नाम ध्यान है।
ध्यान के न तो उथले अनुभव होते हैं न गहरे अनुभव होते हैं। ध्यान अनुभव का नाम ही नहीं है। जहां तक अनुभव हैवहां तक ध्यान नहीं है और जहां से ध्यान शुरू होता है वहां कहां अनुभव अनुभव तो हमेशा बाहर-बाहर रह जाता है। अनुभव का तो अर्थ है कि चेतना में कोई विषय-वस्तु है। और ध्यान का अर्थ है: विषय-वस्तु रहित चैतन्य। अगर लगे कि खूब सुख का अनुभव हो रहा है तो इसका अर्थ हुआ कि चेतना है और सुख का अनुभव है। सुख का अनुभव चेतना में खड़ा है या चेतना को घेरे है। चेतना तो भिन्न है। चेतना तो वह है जिसे सुख का अनुभव हो रहा है। सुख का अनुभव चेतना नहीं है।
फिर ध्यान का कैसे अनुभव होगाध्यान का अनुभव होता ही नहीं। दर्पण हैदर्पण पर कोई प्रतिबिंब बनता हैतो अनुभव। और जब दर्पण पर कोई प्रतिबिंब नहीं बनतादर्पण निराकार हैशून्य है--तब ध्यान। ज्ञान के अनुभव होते हैंध्यान के अनुभव नहीं होते। जहां तक अनुभव हैवहां तक मन है। मन अनुभवों का जोड़ है। सुख के अनुभवदुख के अनुभवगहराइयों के अनुभवऊंचाइयों के अनुभव--सब अनुभव मन के भीतर हैं। और ध्यान अमन की दशा हैउन्मनी दशा है--जहां मन न रहाजहां सब अनुभव गयेजहां एक शब्द भी उठता नहीं हैजहां एक विषय भी छाया नहीं डालता। उस निर्दोषउस निर्मल चैतन्य का नाम ध्यान है।
तुम कहते हो: अगर मैं अपनी खुद की बात कहूंतो ध्यान के गहरे अनुभव जब मैंने कृष्णमूर्ति या आपका नाम तक न सुना था तब हुए।
अनुभव हुए होंगेपर उन्हें ध्यान के अनुभव न कहो। प्रीतिकर अनुभव हुए होंगेसुखद अनुभव हुए होंगेमधुर अनुभव हुए होंगेमगर उन्हें ध्यान के अनुभव न कहो। ध्यान का अनुभव होता ही नहीं। ध्यान अनुभव नहीं है। ध्यान अनुभव से मुक्ति है। ध्यान अनुभवातीत हैभावतीत हैअतिक्रमण है।
दूसरी बात: यह स्वानुभव किसी भी विधि का अभ्यास किए बिना ही हुआ इसलिए कृष्णमूर्ति जब यह कह रहे हैं कि किसी विधि का अभ्यास मत करोवह सहज ही घटित होता है--तब यह बात मुझे स्वाभाविक मालूम होती है।
अब समझनाकिसी विधि का अभ्यास मत करोयह एक विधि है। यह नकारात्मक विधि है। विधियां दो तरह की होती हैं--विधायक और नकारात्मक। विधायक विधि में कहा जाता है--इस विधि का अभ्यास करोउस विधि का अभ्यास करो। नकारात्मक में कहा जाता है--किसी विधि का अभ्यास न करो। इसका अर्थ क्या हुआअविधि का अभ्यास करो। अगर इसका ठीक-ठीक अर्थ समझो तो इसका अर्थ हुआ--अविधि का अभ्यास करो। विधि से बचो। विधि आये तो पकड़ो मत। विधि मिल भी जाए तो उपयोग मत करो। मगर यह नकारात्मक विधि हुई। यह कोई नई बात तो नहीं।
उपनिषद कहते हैं: नेति-नेति--न यहन वह...। छोड़ते चलोकिसी विधि का अभ्यास न करो। बुद्ध ने तो नकार पर बड़ा जोर दिया हैकोई विधि नहीं!
ईसाई फकीरों में एक वर्ग हुआ हैइकहार्ट और उन जैसे फकीरों काजो कहते हैं--वॉया निगेटिवनकार से मार्ग हैनहीं से द्वार है। यह भी एक विधि है। यह नकारात्मक विधि है।
मैं तुमसे यह कह रहा हूं कि अगर विधि ही पकड़नी हो तो विधायक पकड़ना। क्योंकि विधायक विधि को छोड़ना आसान होगानकारात्मक विधि को छोड़ना बहुत मुश्किल होगा। क्योंकि पहले तो तुम यह समझोगे कि यह विधि ही नहीं है तो छोड़ने का सवाल ही न उठेगा।
मैंने सुना हैएक आदमी बहुत सी पट्टियां मुंह पर बांधे हैक्योंकि एक कार दुर्घटना में बड़ी उसे चोट लगीऔर ऐसा दिग्भ्रमित कि आंखें उसकी बिलकुल अभी तक चकराई हुई हैंअभी तक उसे भरोसा नहीं आ रहा है कि क्या हुआ है। दांत के चिकित्सक के वहां पहुंचा। क्योंकि दांतों में भयंकर चोट लगी हैपूरा जबड़ा हिल गया हैऔर दांत सब उखड़ गए हैं। उन दांतों को निकलवाए बिना कोई चारा नहीं है। डाक्टर ने उसका निरीक्षण किया और फिर अपने सहयोगी को बोला कि मैं बड़ी मुश्किल में हूं। क्या मुश्किल हैसहयोगी ने पूछा। उसने कहा: मुश्किल यह है कि इस आदमी की हालत बड़ी खराब है। यह करीब-करीब बेहोश जैसी अवस्था में है।
और इसके दांत निकालने में भयंकर पीड़ा होगी। और दांत निकालने के पहले क्लोरोफार्म दिए बिना कोई चारा नहीं है।
पर...सहयोगी ने कहा कि इसमें मुझे कुछ अड़चन नहीं मालूम होतीतो क्लोरोफार्म दें। उन्होंने कहा: अड़चन यही तो हैक्लोरोफार्म देने के बाद यह कैसे पता चलेगाकब पता चलेगा कि यह आदमी बेहोश हो गयायह आदमी करीब-करीब बेहोश है तो क्लोरोफार्म देने पर कब मैं रुकूंकहां रुकूंकि पता चल जाए कि यह आदमी बेहोश हो गया हैनकारात्मक विधि का जो आदमी उपयोग करेगापहले तो वह मानकर चलता है कि यह विधि नहीं हैयहीं खतरा है। तो छोड़ने का तो सवाल ही न उठेगा।
एक झेन फकीर के पास उसका शिष्य आया। बीस वर्षों से श्रम कर रहा है। और फकीर ने कहा है: एक हाथ की ताली की आवाज कैसी होती हैइस पर ध्यान करो। अब एक हाथ की ताली की आवाज कुछ होती ही नहीं! ताली तो बजती दो हाथों से है। आवाज ही जब होगी तो दो हाथों से होगी। दो टकराएंगे तो आवाज होगीआवाज का अर्थ है टकराहट। एक हाथ की ताली कैसे बजेगीबहुत तरह के उत्तर युवक खोज कर लाता रहा। लेकिन कोई उत्तर सही नहीं हो सकता। गुरु उतर सुनता ही नहीं थावह पहले ही कह देता था--गलत! अभी उसने उत्तर बताया भी नहीं है। उसने एक दिन पूछा भी कि आप भी हैरान करते हैं मुझे! मैं खोजकर लाता हूंमहीनों की मेहनत के बाद...ध्यान करते-करते खोजता हूं कि यह उत्तर ठीक होगाऔर मैं बोल भी नहीं पाता और आप...दरवाजे के भीतर आता हूंकह देते हैं--गलतयह भी गलत!
गुरु ने कहा कि सभी उत्तर गलत हैं। इसलिए पूछने और सुनने की जरूरत क्या हैउत्तर तुम जब तक लाते रहोगे तब तक गलत! जिस दिन तुम शून्य आओगेनिरुत्तर आओगेयह जानकर आओगे कि कोई उत्तर नहीं हैशून्य का अनुभव करके आओगेउस दिन कुछ बात बनेगी।
बीस साल लंबे श्रम के बाद शून्य का अनुभव हुआ। तुम सोच सकते हो उस व्यक्ति की खुशी और आनंद और उल्लास! बीस वर्ष...लंबी साधना थी। आधी उमर निकल गई। लेकिन घटना आधी घटी। आधी रात थी जब यह घटना घटीमगर सुबह तक वह प्रतीक्षा न कर सका। यह समाचार तो गुरु को अभी देना है। बीस वर्ष से वे भी प्रतीक्षा करते हैं। और आज वह शुभ घड़ी आ गई कि मैं जा कर निवेदन कर दूं। वह भागा...आधी रात में जाकर द्वार खटखटाए। गुरु के चरणों पर गिर पड़ा। गुरु ने एक नजर उसकी तरफ देखा और कहा: जा बाहरइसको भी फेंक कर आ! उस युवक ने कहा। किसको फेंक कर आऊंअब तो कुछ बचा नहीं है। शून्य का अनुभव हुआ है।
गुरु ने कहा: बस...बाहर जा। शून्य का कहीं अनुभव होता है! और जिसका अनुभव हो जाए वह शून्य न रहा। शून्य भी अगर अनुभव हो जाएतो शून्य नहीं रहा। अब तुझे शून्य को छोड़ना पड़ेगा। अब तू शून्य को भी छोड़ देतब तू सच में शून्य हो जाएगा।
नकारात्मक विधि का यही खतरा है कि वह पहले से ही नकार है अब वह युवक सिर धुनने  लगा और कहने लगा कि यह तो बड़ी मुश्किल हो गयी! कुछ हो तो छोड़ना आसान हैअब शून्य को कैसे छोडूंशून्य कुछ है तो नहीं जिसे छोडूं!
नकारात्मक विधि से जो चलेगावह अड़चन में पड़ेगा एक दिन। अड़चन यह आयेगी कि जब नकारात्मक विधि छोड़नी पड़ेगी तो क्या छोड़ोगे?
पहले तो यह समझ लेना कि नकारात्मक विधि भी विधि है। कृष्णमूर्ति कहते हैंकिसी विधि का अभ्यास मत करो। यह तो विधान हो गया। यह तो आज्ञा हो गई। यह तो आदेश हो गया। अनुशासन दे दिया गया--किसी विधि का अभ्यास मत करो! यह विधि है। अविधि का अभ्यासया विधि का अनभ्यास--जो भी नाम देना चाहो दे लो।
कृष्णमूर्ति चालीस वर्षों से यही तो समझा रहे हैं। अगर कोई विधि न होती तो चालीस वर्षों तक समझाते क्यासमझाने को क्या बचता हैचुप बैठ गए होते। तुम पूछते और वे हंसते। तुम पूछते और वे चुप रहते और चुप ही रहते। जब कोई विधि ही नहीं हैतो शिक्षण कुछ हो नहीं सकता। लेकिन अविधि भी विधि है। और सच तो यह है कि विधि का शिक्षण तो जल्दी हो जाता हैअविधि के शिक्षण में काफी दिक्कत होती है। क्योंकि लोगों को समझाना नकार को कठिन पड़ता है। विधेय तो पकड़ में आता हैनकार पकड़ में नहीं आता। इसलिए चालीस साल का अथक श्रम...और कितने लोग पकड़ पाए हैं नकार की विधि कोकृष्णमूर्ति को सुनते रहे हैंसुनते रहे हैं...। हांएक बात हो गयी है उनके भीतर--इतनी बात समझ में आ गई है कि किसी विधि को नहीं करना है। मगर यह अविधि क्या हैयह अभी भी समझ में नहीं आया है। और तब चूक हो रही है।
और कृष्णमूर्ति जैसे-जैसे बूढ़े होते जाते हैं वैसे-वैसे देखते हैं कि जीवन-भर की चेष्टा परिणाम कुछ भी नहीं ला पाई है। तो कभी-कभी तो बोलते-बोलते बहुत उत्तेजित हो जाते हैं। स्वाभाविककि इन्हीं लोगों को इतने दिन से समझा रहे हैंकिसी की कुछ समझ में आता मालूम नहीं पड़ता है।
नकारात्मक विधि को समझाना कठिन होता है। मगर विधि फिर भी विधि है। तुम कहते हो: इसलिए कृष्णमूर्ति जब यह कहते हैं कि किसी विधि का अभ्यास मत करोवह सहज घटित होता है। तब यह बात मुझे स्वाभाविक मालूम होती है।
तो फिर घट जाने दो। बात को स्वाभाविक बनाए रखने से क्या होगाफिर घट क्यों नहीं जाने देतेफिर रुकावट क्या हैविधि तो कुछ करनी नहीं है। और बिना विधि के भी तुम कहते हो ध्यान के गहरे अनुभव हुए थे। तो फिर रोक कौन रहा हैअगर विधि साधनी होती तो रुकावट भी हो सकती थी कि जब विधि सधेंगेतब परिणाम होगा। विधि तो साधनी नहीं है। फिर हो क्यों नहीं जाती बात?
और क्या तुम सोचते हो दुनिया में सारे लोग ध्यान की विधियां साध रहे हैंइसलिए अड़चन पड़ रही हैकितने लोग ध्यान कर रहे हैंअगर यह बात सहज होती है तो सिर्फ ध्यान करनेवालों को छोड़कर बाकी सब को होनी चाहिए। इतनी बड़ी पृथ्वी पर चार अरब लोग हैंकितने लोग ध्यान कर रहे हैंअरबों लोग ध्यान नहीं कर रहे हैं। अगर ध्यान न करने से ही विधि पूर्ण हो जाती है और ध्यान लग जाता हैतो सिर्फ ध्यानी भर चूकतागैर-ध्यानी सब पा लेते। अगर बात स्वाभाविक है तो घटती क्यों नहीं?
फिर कृष्णमूर्ति किसको समझा रहे हैंक्या प्रयोजन है समझाने काजो बात स्वाभाविक हैस्वाभाविक हैसमझाने से अस्वाभाविक हो जाएगी। समझाने से अड़चन हो जाएगी। फिर तो आदमी जैसा हैबिलकुल ठीक है।
नहींकृष्णमूर्ति व्यर्थ नहीं समझा रहे हैं। आदमी जैसा हैवैसे ही ध्यान को उपलब्ध नहीं हो जाएगा। और जो लोग ध्यान नहीं कर रहे हैंप्रमाण है इस बात का कि वे ध्यान को उपलब्ध नहीं हो गए हैं।
फिरकृष्णमूर्ति का प्रयोजन क्या हैजब वे कहते हैं कि कोई विधि का अभ्यास मत करोतुम मुझे समझोगेतो ही उस बात का प्रयोजन समझ में आयेगा। क्योंकि कृष्णमूर्ति का दृष्टिकोण थोड़ा एकांगी हैसमग्र नहीं है। मैं विधि भी सिखाता हूंअविधि भी सिखाता हूं। मेरा दृष्टिकोण सर्वांगीण है। मैं कहता हूं: पहले खूब विधि साधो। इतनी साधो कि साधते-साधते थक जाओचरम अवस्था में पहुंच जाओ साधने की। जितनी साध सको उतनी साधो। शिखर पर पहुंच जाओ। और फिर भी तुम पाओगे--अभी ध्यान नहीं मिला हैअभी ध्यान नहीं मिला है। दौड़ोदौड़ो जितना दौड़ सकोदौड़ो और पाओगे कि ध्यान है कि क्षितिज जैसा दूर हटा जाता है...! और ध्यान है कि लगता है मिलामिलामिला...और मिलता नहीं। और इतने पास है कि चार कदम और दौड़ लूं तो मिल जाएहाथ आ जाए।
और मैं कहता हूं: और जोर से दौड़ोऔर जोर से दौड़ो...। एक दिन दौड़ते दौड़ते ही जब तुम्हारी दौड़ने की सारी क्षमता टूट जाएगीचुक जाएगीजब तुम अपने-आप गिर पड़ोगे--उस गिरने में ही घटना घटेगी।
ध्यान की विधि से ध्यान नहीं मिलेगालेकिन ध्यान की विधि का उपयोग करते-करते एक दिन इतने थक कर गिरोगे कि करने को कुछ भी बचेगा नहीं। उस अविधि मेंउस अप्रयास के क्षण में ध्यान बरस जाता है।
इसलिए जो ध्यान नहीं कर रहे हैं उनको ध्यान नहीं मिल रहा है और जो ध्यान कर रहे हैं उनको ध्यान नहीं मिल रहा है। ध्यान उनको मिलता है जो ध्यान करते हैं और करते-करते उस जगह पहुंच जाते हैं जहां आगे करने को कुछ भी शेष नहीं रह जाता। करने की थकान से टूट कर गिर जाते हैंउनको ध्यान मिलता है।
तो अगर तुम मुझसे पूछो कि संक्षिप्त में मेरा क्या संदेश हैविधि को साधोताकि अविधि को उपलब्ध हो सको। और जिस दिन अविधि को उपलब्ध होते होउस दिन ध्यान अपने-आप बरस जाता है। ध्यान सहज-स्वाभाविक है। मगर सहज-स्वाभाविक ध्यानसिर्फ न करने से नहीं मिलता है। कर केकर-कर के न करने की दशा उपलब्ध हो जाती हैतब मिलता है।
ऐसे बुद्ध को मिला। छः वर्ष अथक विधि है। सब दांव पर लगा दियाकुछ भी बचाया नहीं। और छह वर्ष सब दांव पर लगाने के बाद एक सांझ पायापाया क्याकुछ भी तो मिला नहीं! सब किया जो किया जा सकता थामानवीय रूप से जो भी संभव थासब किया। कुछ मिला तो नहीं! उस रात थक गए थेबुरी तरह थक गए थे। उस रात ध्यान भी छोड़ दियाविधि भी छोड़ दीयोग भी छोड़ दियातप भी छोड़ दिया। उनके पांच शिष्य थेवे यह देख कर कि उन्होंने तप-जपध्यान सब छोड़ दियाबुद्ध को छोड़ कर चले गए। उन्होंने कहा: यह तो भ्रष्ट हो गएगौतम भ्रष्ट हो गया! स्वभावतः वे बुद्ध के पीछे इसलिए लगे थे कि वे बुद्ध की तपश्चर्या से बड़े प्रभावित हुए थे। तीनत्तीन महीने के बुद्ध ने उपवास किए। उनमें पांचों में से कोई भी तीन महीने का उपवास नहीं कर सकता थाइसलिए वे प्रभावित थे। कोई तीन सप्ताह कर सकता थाकोई चार सप्ताहतीन महीने का उपवास कोई भी नहीं कर सकता थातो वे प्रभावित थे कि यह है गुरु! शरीर को सुखा डाला था! उन्होंने बहुत गुरु देखे थेलेकिन ऐसा गुरु नहीं देखा था--तपस्वी! कहानी कहती है कि पेट पीठ से लग गया था। शरीर को ऐसा सुखा डाला था कि छाती की एक-एक हड्डी गिनी जा सकती थी। चमड़ी और छाती के बीच में मांस-मज्जा बिलकुल नहीं रह गए थेचमड़ी सीधी हड्डियों से जुड़ गई थी।...इसीलिए तो वे प्रभावित थे!
इस दुनिया में लोगों के प्रभावित होने के भी अजीब-अजीब ढंग हैं! लोग इतने रुग्ण हैं कि गलत चीजों से प्रभावित होते हैं! कोई आदमी सिर के बल खड़ा हैउससे प्रभावित हो जाते हैं। अगर परमात्मा की यही मर्जी थी तो सभी को सिर के बल खड़ा किया होतायह भूल क्यों करता परमात्मा कि पैर के बल खड़ा करता! अब यह जो मूढ़ सिर के बल खड़ा हो गया है...ये योगिराज हो जाते हैं! अगर परमात्मा की यही मर्जी थी कि पेट पीठ से लग जाएतो पेट पीठ से ही लगा हुआ पैदा किया होता।
जिस दिन बुद्ध ने घोषणा कर दी कि बसजो मैं कर सकता था कर चुकाऔर मैंने पाया कि यह सब व्यर्थ हैयह सब आयोजन व्यर्थ है! मैं आज सब त्याग रहा हूं। संसार मैं पहले छोड़ चुका थासाधना आज छोड़ रहा हूं। जिस दिन उन्होंने यह घोषणा की (संसार तो छोड़ ही चुके थे)...साधना भी छोड़ रहा हूंइस लोक से तो थक ही गया थाअब उस लोक से भी थक गया...इहलोक छोड़ापरलोक भी छोड़ता हूं--उसी दिन पांचों शिष्यों ने आपस में विचार किया कि गौतम भ्रष्ट हो गया! अब हम इसके पास रह कर क्या करेंवे छोड़ कर चले गए।
और बुद्ध उसी रात समाधि को उपलब्ध हुएउसी रात! क्योंकि उस रात चिंता न रहीपाने की कोई आकांक्षा न रही--न इस लोक में न परलोक में। ध्यान और समाधि पाने की वासना भी न रही।
वासना मात्र बाधा है। तुम विधि का उपयोग क्यों करते होक्योंकि वासना है--ध्यान पाना चाहते हो कोई धन पाना चाहता हैतुम ध्यान पाना चाहते हो। पाना चाहने में तो कुछ भेद नहीं हैचाह तो है! और चाह दोनों को खींचेगी भविष्य की तरफ। और चाह विश्राम में न उतरने देगी। और चाह दौड़ाएगी...चाह ठहरने न देगी। और चाह चित्त को चलाएगी और चंचल रखेगी। और चाह रहेगी तो चित्त चलता रहेगाचित्त में चलने की गरमी बनी रहेगी। फिर धन पाना है कि ध्यानभेद नहीं पड़ताकुछ भी पाना है तो महत्वाकांक्षा है। और जहां महत्वाकांक्षा है वहां मन हैऔर जहां मन है वहां ध्यान कहां!
उस रात सारी महत्वाकांक्षा छूट गई। उस रात कोई भाव न थाकोई विचार न थाकोई भविष्य न था। उस रात सो रहे।...लेटे थेपूर्णिमा की रात थी। पूर्णिमा के प्रकाश में सूखी देह...अत्यंत कृशकाय हुए...अमानवीय मालूम होते होंगे भूत-प्रेत जैसे मालूम होते होंगे! एक स्त्री ने मनौती मनाई थी कि उस वटवृक्ष कोपूर्णिमा की रातअगर वह गर्भिणी हो जाएगीतो खीर भेंट करेगी। वह गर्भिणी हो गयी थी...पूर्णिमा की रात आ गई थी तो वह सुजाता नाम की स्त्रीथाल में खीर भर करमिष्ठान्न लेकरसुस्वादु भोजन लेकरवटवृक्ष को चढ़ाने आई थीनिरंजना नदी के तीर पर। देखा वहां उसने...उस पूर्णिमा के प्रकाश में जैसे वटवृक्ष का देवता स्वयं प्रकट हुआ हो! वह तो भाव-विभोर हो उठीचरण छुए और कहा: हे वटवृक्ष के देवतामैंने तो कभी कल्पना भी न की थी कि आप प्रकट होकर लेंगे! मगर मैं धन्यभागी हूंमेरी भेंट स्वीकार करें!
कोई और दिन होता तो बुद्ध पहले तो रात को रात्रि भोजन ही नहीं करतेरात्रि भोजन तो पाप था! फिर अपरिचितअनजान महिलाजिसका नाम सुजाता हो! ध्यान रखनासुजाता नाम की महिला जरूर ही शूद्र रही होगीक्योंकि सुजात नाम रखते ही कुजात हैंनहीं तो कौन सुजाता नाम रखेगा! तुम देखते हो नजिसका नाम सुंदरबाई...समझ जाना! नयनसुख दास...समझ जाना! जब तक आंखें खराब न होंतब तक कोई नयनसुख दास नाम होता है! सुंदरबाई! उसका मतलब है साफ है मामला--जो नहीं हैउसको नाम से आरोपित किया गया है।
सुजाता! सुजात न रही होगीब्रह्मण न रही होगी क्षत्रिय न रही होगी। क्योंकि ब्राह्मण ऐसे नाम रखते हैं--सुजाता! क्या प्रयोजन हैकुजात रही होगीशूद्र रही होगी। यह भी न पूछा कि तेरी जात क्या हैऔर दिन होता तो पूछते थेजात क्या हैऔर दिन होता तो ऐसे ही अनजान अपरिचित व्यक्ति से आधी रात में मिष्ठान्न और खीर स्वीकार न कर लेते। और खीर और मिष्ठान्न तो वर्षों से नहीं लिए थेजब से महल छोड़ा थातब से नहीं लिए थे। मगर अब कोई अड़चन न रही। जब कुछ पाना ही न था तो खोने को क्या था!...चुपचाप अंगीकार कर लिया। वर्षों बाद पहली बार ठीक से भोजन कियाऔर पहली बार ठीक से सोए निश्चिंत। जब कोई चिंता न थी तो कोई स्वप्न भी न बने उस रात। चिंताओं की ही छाया तो स्वप्न है। रात सन्नाटे में बीत गई--एक गहन सन्नाटा!
पतंजलि ने कहा है: समाधि और सुषुप्ति में भेद नहीं है। बस इतना सा भेद है कि सुषुप्ति है बेहोश और समाधि है होशपूर्णअन्यथा सुषुप्ति और समाधि का एक ही रंगएक ही ढंगएक ही स्वाद है। उस रात स्वप्न तो नहीं थेइसलिए प्रगाढ़ सुषुप्ति रही। और सुबह जब आंख खोली...भोर का आखिरी तारा डूबता था। उस आखिरी तारे को डूबते देखकर डूबते देखकरभीतर भी कुछ आखिरी हिस्सा डूब गया अहंकार का...। अहंकार ही तो है जो कहता है--धन पाओ। और अहंकार ही तो हैनिपुण शास्त्रीजो कहता है--ध्यान पाओ। अहंकार ही कहता है कि संसार में बन जाओ सिकंदरऔर अहंकार कहता है कि परलोक में हो जाओ महावीरबुद्धकृष्ण! ये अहंकार की ही आकांक्षाएं हैं।
...डूबता आखिरी तारा अहंकार बिलकुल डूब गया! न कुछ पाने को है न कहीं जाने को है। जैसा है वैसा ठीक है। तथाता का भाव पैदा हुआ। इसलिए बुद्ध का एक नाम पड़ा: तथागत! जो हैजैसा हैठीक है। जैसा है बिलकुल वैसा ही ठीक है। यथाभूतम! जैसा हैबस बिलकुल वैसा ही ठीक है। इसमें कुछ भी नहीं करना है। अन्यथा कुछ होना नहीं हैकरना नहीं है। समाधि खिल गयी! समाधि का नीलकमल खिल गया!
यही मेरा कृष्णमूर्ति से भेद हैमैं उनसे सहमत भी और असहमत भी। सहमतक्योंकि वे आधी बात कह रहे हैंआधी बात तो सच है। असहमतक्योंकि आधी बात मौजूद नहीं है। सीढ़ी का आखिरी हिस्सा तो हैसीढ़ी का पहला हिस्सा नहीं है। और बिना पहले हिस्से के तुम आखिरी हिस्से पर न पहुंच सकोगे। यद्यपि आखिरी हिस्से पर पहुंचना हैमगर पहला हिस्सा कहां हैसीढ़ी तब पूरी होती है जब जमीन और आसमान दोनों को छुए। क्योंकि जमीन पर हम खड़े हैंअगर सीढ़ी जमीन न छुए तो हम चढ़ेंगे कैसेऔर अगर सीढ़ी आसमान न छुए तो चढ़ने का फायदा क्याकहीं बीच में लटके त्रिशुंक हो जाएंगे।
एक तरफ लोग हैं महर्षि महेश योगी जैसेउनके पास भी आधी सीढ़ी है--सीढ़ी का पहला हिस्साविधि मात्र। दूसरी तरफ कृष्णमूर्ति जैसे व्यक्ति हैंउनके पास सीढ़ी का दूसरा आधा हिस्सा है--विधि नहींप्रयास नहींसहजता। दोनों अधूरे हैं। महर्षि महेश योगी के साथ जो चलेगाविधि पर अटक जाएगा--बुद्ध के पहले छह वर्ष! कृष्णमूर्ति के साथ जो चलेगाचल ही नहीं पाएगा। भ्रांति में रहेगा कि चल रहा हूं। सब चलना बौद्धिक रहेगासोच-विचार का रहेगाजीवंत नहीं होगा। क्योंकि सीढ़ी का पहला हिस्सा मौजूद नहीं हैतुम दूसरे हिस्से पर पहुंचोगे कैसेतुम जमीन पर होसीढ़ी आकाश में लगी है! तुम्हारे और सीढ़ी के बीच में इतना फासला हैइसको कैसे पार करोगे?
मैं समग्रता की बात कर रहा हूं--अनंत आयामी समग्रता की बात कह रहा हूं। सब दिशाओं में समग्रता की बात कह रहा हूं! विधि को करो और समग्रता से करोउसी में खिलेगा फूल अविधि का! और अविधि से सुवास उठती है समाधि की!

आखिरी प्रश्न:

भगवान! संन्यास लूं या नहींडर लगता है संसार का। झेल पाऊंगा लोगों का विरोध या नहीं?

विरोध तो सुनिश्चित है।...और झेल पाओगे। आत्मवान होओ। अगर विरोध न झेल पाओगेतो इसका सबूत होगा कि मुर्दे होजिंदा नहीं हो। आत्मा भीतर हैसब झेलने में समर्थ है। और फिर कुछ आंधीत्तूफान चाहिए आत्मा को प्रगाढ़ करने के लिएआत्मा को एकाग्र करने के लिए। आत्मा के निखार के लिए कुछ आंधीत्तूफान चाहिए।
फूल कांटों में खिला थासेज पर मुरझा गया।
जगमगाता था ऊषा-सा कणकों को में वह सुमन,
स्पर्श से उसके तरंगित था सुरभिवाही पवन
ले कपूरी पंखुरियों में फुल्ल मधुऋतु का सपन,
फूल कांटों में खिला थासेज पर मुरझा गया।
प्रखर रवि का तापझंझा के असह झोंके कठिन,
कर न पाए उस तरुण संघर्ष-कामी को मलिन,
किंतु झाड़ी से अलग हो रह न पाया एक दिन,
फूल कांटों में खिला थासेज पर मुरझा गया।
जो अडिग रहता अड़ा तूफान मेंबरसात में,
टूट जाता है वही तारा शरद की रात में,
मुक्त जीवन की प्रगति भी द्वंद्व मेंसंघात में
फूल कांटों में खिला थासेज पर मुरझा गया।
कांटों से डरो न। आंधियों से भगो न। तूफानों में ही आत्मा का जन्म होता है।
संन्यास लोगेअड़चनें तो होंगीबहुत अड़चनें होंगीसब तरफ की अड़चनें होंगी। मैं तुम्हें आश्वासन नहीं दे सकता कि अड़चन नहीं होंगी। इतना ही आश्वासन दे सकता हूं कि तुम उन सारी अड़चनों को झेल सकने में समर्थ हो। प्रत्येक व्यक्ति समर्थ है। जो भी जीवंत हैसमर्थ है। और झेल सकोगे तो निखरोगे! और झेल सकोगे तो कितने ही कांटे होंफूल को खिलने से न रोक पाएंगे।
लेकिन तुम्हारी चिंता भी मैं समझता हूंतुम्हारी ही नहींसबकी चिंता है। ऐसा ही हमारा मन है। मन हमेशा दुविधा में है। मन दुविधा है--करूंन करूंऔर ऐसा नहीं है कि कोई बड़े-बड़े सवालों में दुविधा हैछोटे-छोटे सवालों में--इस फिल्म को देखने जाऊं कि उस फिल्म को देखने जाऊंयह साड़ी पहनूं कि वह साड़ी पहनूंस्त्रियां खोलकर खड़ी हो जाती हैं अपने भंडार को! और घंटों लग जाते हैं यही तय करने में कि कौन सी साड़ी पहनूं!
मन दुविधा है। ताला लगा कर लोग जाते हैं घर मेंफिर दस-पांच कदम के बाद लौट आते हैं और खटखटा कर देखते हैं--लगा गए कि नहीं! जो होशियारे हैंवे तो और भी गजब कर देते हैं!
मुल्ला नसरुद्दीन की पत्नी उससे कह गई थी कि दरवाजे पर नजर रखना। गई थी बाहर शादी-विवाह में किसी के घर और देर से लौटेगी रात। मुल्ला किसी तरह थोड़ी-बहुत तो देर देखता रहादरवाजे को अब कब तक बैठे देखते रहें! उसे जाना मधुशाला है। सो उसने उखाड़ा दरवाजारखा कंधे पर और चल पड़ा। रास्ते में पत्नी आती थीवह मिली कि कहां जा रहे होऔर यह दरवाजा कहां ले जा रहे होउसने कहा: तू कह गई कि दरवाजे पर नजर रखना। अब कब तक वहीं बैठा रहूं! तो रखूंगा दरवाजे पर नजर। जब जहां भी बैठूंगावहीं सामने रख लूंगा और नजर रखे रहूंगा।
मन का अर्थ ही यही होता है कि जो सदा बंटा हुआ है,जो सदा द्वंद्व में है--कहता है बाएं चलोकहता है दाएं चलोजो कभी एकजूट नहीं होता। और उसको एकजूट करने का एक ही उपाय है कि जीवन में कुछ ऐसे निष्कर्ष लो जो तुम्हारी सारी शैली को बदल जाएं,जो तुम्हें आमूल रूपांतरित कर जाएं। जीवन में कुछ ऐसे निष्कर्ष लो कि वे निष्कर्ष तुम्हारे टूटे हुए खंडों को जोड़ जाएं।
फिक्रे-दिलदारी-ए-गुलजार करूं या न करूं
जिक्रे-मुर्गाने-गिरफ्तार करूं या न करूं
किस्सा-ए-साजिशे-अगयार कहूं या न कहूं
शिकवा-एक-यारेत्तरहदार करूं या न करूं
जाने क्या वज्अ है अब रस्मे-वफा कीऐ दिल
बज्ए-दैरीना पे इसरार करूं या न करूं
जाने किस रंग में तफसीर करें अहले-हवस
मदहे-जुल्फ-ओ-लब-रुखसार करूं या न करूं
यूं बहार आई है इमसाल की गुलशन में सबा
पूछती है गुजर इस बार करुं या न करुं
गोया इस सोच में है दिल में लहू भरके गुलाब
दामन-ओ-जेब को गुलनार करूं या न करूं
है फकत मुर्गे-गजलख्वां कि जिसे फिक्र नहीं
तदिल गर्मी-ए-गुफ्तार करूं या न करूं
सुनते हो!...
गोया इस सोच में है दिल में लहू भरके गुलाब
दामन-ओ-जेब को गुलनार करूं या न करूं
जैसे गुलाब तैयार है--सुर्खी से लबालब भीतरऔर सोच रहा है कि इस बार खिलूं या न खिलूं! इस बार सुगंध उड़ाऊं कि न उड़ाऊं!
गोया इस सोच में है दिल में लहू भरके गुलाब
दामन-ओ-जेब को गुलनार करूं या न करूं
संन्यास का भाव जगा तो गैरिक रंग तुम्हारे हृदय में भर गया हैइसलिए जगा।
गोया इस सोच में है दिल में लहू भरके गुलाब
दामन-ओ-जेब को गुलनार करूं या न करूं
अब क्या झिझकते होअब कैसी झिझकअगर हृदय में गैरिक रंग छाया है तो खिल जाने दो गुलाब को अबअब छा जाने दो बाहर भी। अड़चनें तो आएंगी। अड़चनें स्वाभाविक हैं। और अड़चनें सौभाग्य हैं। क्योंकि अड़चने न आएं तो तुम कभी विकसित न होओगेऔर आंधियां न आए तो कभी आत्मा न जगेगी।
है फकत मुर्गे-गजलख्वां कि जिसे फिक्र नहीं।...सिर्फ एक गाता हुआ पंछी ही है कि जिसे चिंता ही नहीं हैवह गाए ही चला जा रहा है। गुलाब सोच में पड़ा है कि खिलूं या न खिलूं! है फकत मुर्गे-गजलख्वां कि जिसे फिक्र नहीं। लेकिन एक पक्षी भी है जो गाए चला जा रहा है। मो तदिल गर्मी-ए-गुफ्तार करूं या न करूं!
उसे गर्मी और सर्दी की भी चिंता नहीं है--गाए ही चला जा रहा है। सुबह हो कि सांझ होगाए ही चला जा रहा है। कि दुपहरी हो कि आधी रात हो कि गाए ही चला जा रहा है।
मेरा गीत सुनोमैं गाए चला जा रहा हूं।
है फकत मुर्गे-गजलख्वां कि जिसे फिक्र नहीं
मो तदिल गर्मी-ए-गुफ्तार करूं या न करूं
और एक तुम हो कि भीतर संन्यास का भाव उठा हैअब तुम सोच रहे हो: संन्यास लूं या नहींभाव न उठेतो कभी मत लेना। भाव न उठे तो प्रश्न ही नहीं उठता। भाव न उठे तो भूल कर मत लेना। किसी की नकल मत करना। किसी और ने लिया होइसलिए मत ले लेना। क्योंकि वह झूठ होगा और उसका कोई अर्थ नहीं होगा।
लेकिन भाव उठा होतो फिर सारी दुनिया भी कहे तो रुकना मत। फिर तो जितना ही दुनिया रोकेउतना ही रुकना मत। क्योंकि यह जीवन तुम्हारा हैऔर इस जीवन को जीने का निर्णय तुम्हारा होना चाहिए। तुम्हारे उस संकल्प में ही तुम्हारी साधना की शुरुआत है।
आज इतना ही।






कोई टिप्पणी नहीं:

No comments