loading...

तेरे द्वार खड़ा भगवान भगत, भर दे रे झोली-Kabir Ke Shabd-tere dvaar khdaa bhagvaan bhagat, bhar de re jholi।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द

तेरे द्वार खड़ा भगवान भगत, भर दे रे झोली।
तेरा होगा बड़ा अहसान, के युग युग तेरी रहेगी शान।।

डोल उठी रे सारी धरती, डोला गगन है सार।
भीख मांगने आया तेरे दर, जगत का पालनहारा रे।।

मैं आज तेरा महमान, करले रे मुझसे जरा पहचान।
आज लुटा दे सर्वस अपना, मानले कहना मेरा।।

मिट जाएगा पल में तेरा, जन्म जन्म का फेरा रे।
तूँ छोड़ सकल अभिमान,अमर करले रे अपना दान।।

कोई टिप्पणी नहीं