पौराणिक कथाएं (Pauranik Katha)

रोचक कहानियाँ पंचतंत्र की कहानियाँ

Pauranik Kathayen

पौराणिक कथा, कहानियों का संग्रह (Collection of Pauranik Kathyen, Mythological Stories in Hindi)

1 to 10
11 to 20
21 to 30
31 to 40
41 to 50 
51 to 60
61 to 70
71 to 80
81 to 90
91 to 100
101 to 110
111 to 120
121 to 130
131 to 140
141 to 150
  • चावार्क की कहानी और उनका दर्शन : Charvak Story & Darshan
  • अदभुत रहस्य – बारह घन्टे के हनुमान ने किया था सूर्य का भक्षण
  • कथा – रहस्यमई “चूडामणि” का अदभुत रहस्य “
  • जब सुदर्शन चक्र के भय से भागे दुर्वासा
  • महाभारत प्रसंग- जब एक स्त्री के देखने मात्र से काले हो गए थे युधिष्ठिर के पैरों के नाखून
  • जानिए कैसे हुआ भागीरथी गंगा से पहले,”पंच गंगाओं “का धरती पर अवतरण
  • उच्ची पिल्लयार मंदिर- मान्यता है की यहां विभीषण ने किया था श्रीगणेश पर वार, जानिए क्यों
  • राधा जन्म की कहानी – ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार मां के गर्भ से नहीं जन्मी थी राधा
  • जानिए क्या थी कर्ण, घटोत्कच, विदुर और संजय कि अंतिम इच्छा
  • मोहिनी और विष्णु भक्त रुक्मांगद की कहानी
151 to 160
  • जनक पैदा हुए थे अपने पिता निमि के शरीर मंथन से, यह है धर्म ग्रंथो में वर्णित श्रृष्टि के तीन अदभुत मंथन
  • श्री राम जी के पुत्र ‘लव’ और यमराज का भीषण युद्ध—–मरने के बाद सुमंत हुए जीवित
  • केवल लक्ष्मण ही कर सकते थे मेघनाद(इंद्रजीत) का वध, पर क्यों? जानिए रामायण का एक अनजान सत्य!
  • कहानी महर्षि दधीचि की- देवताओं की प्राण रक्षा के लिए किया था अपनी अस्थियों का दान
  • कहानी राजा पृथु की -अपने पिता वेन की दाहिनी भुजा के मंथन से पैदा हुए थे पृथु 
  • लक्ष्मी, सरस्वती और गंगा का परस्पर श्राप देना
  • कैसे हुई क्षीर सरोवर की उत्पत्ति
  • महामाया परमेश्वरी के सोलह श्रंगारों का धरती पे अवतरण तथा मिथ्यादेवी का कलियुग में शासन
  • कैसे हुआ बालि और सुग्रीव का जन्म तथा कैसे पड़ा ऋष्यमूक पर्वत का नाम
  • गरुड़जी के सात प्रश्न तथा काकभुशुण्डि के उत्तर
161 to 170
  • श्रीगणेश गीता (Ganesh Geeta)- जब श्रीगणेश ने दिया राजा वरेण्य को गीता का ज्ञान
  • ब्रह्मा जी के कहने पर महर्षि वाल्मीकि ने लिखी रामायण, जानिए महर्षि वाल्मीकि से जुडी कुछ रोचक बातें
  • कर्ण में सूर्य देव के साथ दम्बोद्भव असुर का भी था अंश, जानिए एक अदभुत पौराणिक रहस्य
  • ||अदभुत रहस्य:- जब मृत्यु की भी हुई मृत्यु ||
  • दीपावली की प्रतिपदा को करें:–पाँचवे वेद ” महाभारत की पूजा, फिर करें गोवर्धन पूजा
  • उर्वशी अप्सरा के पूर्व जन्म की कहानी
  • पुराणों में वर्णित शनि देव से जुड़े अदभुत रहस्य
  • भगवान विष्णु ने देवकी और वसुदेव के घर क्यों लिया कृष्णावतार?
  • वसुदेव, देवकी और रोहिणी के पूर्वजन्म की कथा
  • कहानी दिति, अदिति और कश्यप ऋषि की
171 to 180
  • || महामाया के अदभुत रूप ||
  • सतयुग में पृथ्वी पर श्री हनुमान जन्म का अदभुत रहस्य
  • सम्पूर्ण जीवन अधर्म करने के बाद भी दुर्योधन को क्यों मिला स्वर्ग में स्थान
  • अदभुत रहस्य :- आखिर क्यों निगला सीताजी ने लक्ष्मण को
  • महाभारत युद्ध का 18 दिनों का घटनाक्रम : जानिए किस दिन क्या हुआ था
  • सीता का नही, छाया सीता का हरण किया था रावण ने। जानिए कौन थीं छाया सीता?
  • कैसे आये भगवान राम के पग तलवे में ये चार चिन्ह :–कमल_ वज्र _अंकुश _ध्वजा
  • विभीषण से कर लेने घटोत्कच गया था लंका, जानिए भीम पुत्र घटोत्कच से जुडी रोचक जानकारी
  • विवाह के कार्ड पे लडके के नाम के आगे-चिरंजीव तथा लडकी के नाम-के आगे आयुष्मति क्यों लिखा जाता है ?
  • आखिर ! महर्षि वाल्मीकि जी को कवित्व शक्ति कैसे मिली । कैसे हुए “आदिकवि”
181 to 190
  • कैसे प्राप्त हुई हनुमानजी को अपार शक्तियां, जिससे बने वो परम शक्तिशाली
  • क्या आप जानते हैं ? 68 करोड तीर्थ देवताओं का रूप धारण करके अयोध्या धाम का दर्शन करने तथा सरयू स्नान करने प्रतिदिन आते हैं।
  • पौराणिक रहस्य – सुदामा को गरीबी क्यों मिली?
  • मरते वक़्त बालि ने, अंगद से कही थी ये तीन ज्ञान की बातें। आप भी जानिए
  • द्रोपदी जन्म कथा, आखिर कैसे मिले ! द्रोपदी को पांच पति ?
  • भगवान श्री कृष्ण द्वारा मारे गये धेनुकासुर के पूर्व जन्म की कथा
  • नाभाग की कथा
  • महाशिवरात्रि व्रत कथा : Mahashivratri Vrat Katha
  • सीता की निंदा करने वाले धोबी के पूर्व जन्म का वृत्तान्त
  • वनवास के बाद सीता जी का आगमन, अश्वमेघ यज्ञ का आरम्भ तथा अश्व के पूर्व जन्म की कथा
191 to 200 
  • अपने पुत्रों को ही नदी में बहाया था गंगा ने, पर क्यों?, जानिए गंगा से जुडी ऐसी ही रोचक बातें 
  • कूर्म जयंती | भगवान विष्णु के कूर्म अवतार की कहानी
  • कनकधारा स्तोत्रम् | इसकी सहायता से आदि शंकराचार्य ने करवाई थी सोने की बारिश
  • गीता सार -परिवर्तन ही संसार का नियम है- Aakhir kyon