loading...

सरयू जी से रास्ता-Way from siru ji

Share:
सरयू जी से रास्ता

श्री अवध में सरयूके किनारे एक महात्मा थे। वे एक ऊँचे मचानपर रहते थे। वे किसीसे बोलते नहीं थे। जब उनको भगवान्के दर्शन करनेकी मनमें आती तब वे सरयूजीसे कहते 'बहिनी! तनि रस्तवा द हो' यह कहकर सरयूमेंसे जाकर कनकभवनमें भगवान्का । दर्शन करके फिर इसी तरह कहकर वापस मचानपर आ जाते थे। -कु० रा०

कोई टिप्पणी नहीं