loading...

आया है-२ बंजारा केशव आया है-Kabir Ke Shabd-aayaa hai-2 banjaaraa keshav aayaa hai।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द

आया है-२ बंजारा केशव आया है।
नो लख बोरी भरी बिशम्बर,किया कबीर भंडारा।
धरती ऊपर तम्बू ताने, चोपड़ के बाजारा।।

कौन देश ते बालद उतरी,कित उतरी जल धारा।
अपरम्पार पार गति तेरी,नां कहीं बंधा निवारा।।

साहूकार नहीं कोए जाके, कांसी बीच मंझारा।
दास गरीब कल्प ते उतरे,आप अलख करतारा।।

कोई टिप्पणी नहीं