loading...

भाई अंत समय में,काम ना आवे तेरे रोना-Kabir Ke Shabd-bhaai ant samay men,kaam naa aave tere ronaa।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द
भाई अंत समय में,काम ना आवे तेरे रोना।
मनुष्य जन्म का चोला पा कर, बीज भर्म का बोना।
बिना भजन ना कीमत इस की, बेगी यो मत खोना।।

बाला पन हंस खेल गंवाया, भरी जवानी सोना।
वृद्ध हुआ कफ वायु ने घेरा, फेर भजन कब होना।।

मेर तेर तै बंधा पड़ा सै,  लग रहा भूल भूलोना।
फेर पछताये क्या हो भइया, चले ना जादू टोना।।

घर्ड-२ तेरी घेटी बोले, चम्मच पानी चोना।
लम्बे-२सांस घाल के, चल दिया हंस बरौना ।।

मान बड़ाई त्याग बगाई, भावानंद सा होना।
ओंकारानंद राधा कृष्ण,दाग जिगर का धोना।।

कोई टिप्पणी नहीं