loading...

गुरुदेव दया करके, मुझ को अपना लेना-Kabir Ke Shabd-gurudev dayaa karke, mujh ko apnaa lenaa।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 
कबीर के शब्द
गुरुदेव दया करके, मुझ को अपना लेना।
मैं शरण पड़ा तेरी, चरणों में जगह देना।।

करुणानिधि नाम तेरा, करुणा दिखलाओ तुम।
सोए हुए भाग्य को, हे नाथ जगाओ तुम।
मेरी नाव भँवर डोले, उसे पर लगा देना।।

तुम सुख के सागर हो, निर्धन के सहारे हो।
मेरे तन में समाय हो, प्राणों से प्यारे हो।
नित माला जपूं तेरी, नहीं दिल से भुला देना।।

पापी हूं या कपटी, जैसा भी हूं तेरा हूं।
घर बार छोड़कर मैं, जीवन में अकेला हूं।
दुख का मारा हूं, मेरे दुखड़े मिटा देना।।
मैं सब का सेवक हूं, तेरे चरणों का चेरा हूं।
नहीं नाथ भुलाना मुझे, इस जग में अकेला हूं।
तेरे दर का भिखारी हूं, मेरे दौष मिटा देना।।

सत्त साहिब

कोई टिप्पणी नहीं