loading...

जां टूट भर्म के ताले, तूँ कुंजी ला गुरु ज्ञानकी-Kabir Ke Shabd-jaan tut bharm ke taale, tun kunji laa guru jyaanki।।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 
कबीर के शब्द

जां टूट भर्म के ताले, तूँ कुंजी ला गुरु ज्ञानकी।।
सच्चे मन से ध्यान धरे तो, कौन बतावे घाट तनै।
कर बुद्धि की शुद्धि मिलजा, ईश्वर ओघट घाट तनै।।
तूँ सूरत भजन में लाले, फेर मेहर फिरे भगवान की।।

जीव सताना जुल्म कमाना, के मिल जा इंसान तनै।
दिन रात कमाया हाथ न आया, भजा नहीं भगवान तनै।
तूँ दुख भोगे विकराले, तनै जान पटे भगवान की।।

फेर पाछे पछतावेगा, तनै क्यों न अच्छा कर्म करा।
सूते पे के रुक्के हों, जब चिड़िया चुगजां खेत तेरा।
यमदूत आवे विकराले, तनै चिंता होजा जान की।।

गुरु तार दे पार बन्दे, चरणां के मां लाकै नै।
फेर दोबारा टेम मिले ना, वक्त पड़ा है जागै नै।
कृष्ण लाल गिरावड़ वाले, सेवा कर चन्द्रभान की।।

कोई टिप्पणी नहीं