loading...

जगत में जीवन थोड़ा रे, मत भूलै हरि नाम-Kabir Ke Shabd-jagat men jivan thodaa re, mat bhulai hari naam।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 
कबीर के शब्द
जगत में जीवन थोड़ा रे, मत भूलै हरि नाम।
माया मोह धोह की फांसी,क्या लिपटा धन धाम।।

जिस देही का गर्व करत है, हाड़ लपेटा चाम।
सो सब जल बल खेह मिलेगी, सुमरै क्यूं न राम।।

कोए पहले कोए दस दिन पीछे,चलसी खलक तमाम।
नित्यानन्द भज राम गुमानी,होगा महल मुकाम।।

कोई टिप्पणी नहीं