loading...

करो रे मन वा दिन की तदबीर-Kabir Ke Shabd-karo re man vaa din ki tadbir।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 
कबीर के शब्द
करो रे मन वा दिन की तदबीर।
भव सागर एक नदी अगम है, जल बाढ़े गम्भीर।
गहरी नदिया नाव पुरानी, खेवनिया बेपीर।।

यम के दूत पकड़ ले जावें, नेक धरें ना धीर।
मारें सोंटा प्राण काढले,बहे नैन से नीर।।

जब यमराजा लांबे बांधे, व्याकुल भयो शरीर।
कहें कबीर सुनो भई साधो, अब न करेंगें तकसीर।।

कोई टिप्पणी नहीं