loading...

म्हारै प्रेम संदेशी गुरु आए-Kabir Ke Shabd-mhaarai prem sandeshi guru aaa।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 
कबीर के शब्द
म्हारै प्रेम संदेशी गुरु आए।
मन्दिर भयो उजास सखी री,
मंगल वचन सुहाए।

प्रीत बदरिया उमड़ घुमड़ तन
नगर माहीं झड़ लाए।

पिया मिलन को आगम उपज्यो,
मोतियन मन्दिर छाए।

बरसै क्षीर झड़ लाए कर,
निपजै रत्न सवाए।

नित्यानन्द निज नूर गुमानी,
म्हाने ऐसे सुख दरसाय।

कोई टिप्पणी नहीं