loading...

संतां का देश निराला हे,के जाने नुगरी दुनिया-Kabir Ke Shabd-santaan kaa desh niraalaa he,ke jaane nugri duniyaa।

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 

कबीर के शब्द
संतां का देश निराला हे,के जाने नुगरी दुनिया।
सन्त मिलें सत्संग बतलावें जी
निगराँ ने नहीं सत्संग भावे जी

उनके घट में लग रहा ताला हे।
त्रिवेणी घर एक तख्त हजारा जी

उड़े सोहं बाल चले चोधारा जी
उड़े ना गर्मी ना पाला हे।

अमरापुर गुरु का देश बताया जी
धरनि आकाश नहीं नर की काया जी

उड़े बिन सूरज उजियाला हे।
दसमें महल में कोए गुरुमुख जावे जी

सूरत शब्द मिले उड़े लेट लगावे जी
उड़े भानी नाथ रुखाला हे

कोई टिप्पणी नहीं