loading...

मेरी तेरी करके खो दई - meri teri karke kho dayi - Kabir ke Shabd

Share:
SANT KABIR (Inspirational Biographies for Children) (Hindi Edition ...
Kabir Ke Shabd 


कबीर के शब्द

मेरी तेरी करके खो दई, उम्र सारी रे।
लोभी मन नहीं विचारी रे।।

नो दस मास गर्भ में लोटा, माता थारी रे।
बाहर आन के भूल गया तूँ, सुधबुध सारी रे।।

बालपन में गोद खिलाया, बहना थारी रे।
शादी हो गई त्रिया आई लगी, हर से प्यारी रे।।

कोढ़ी कोढ़ी माया जोड़ी, बना हज़ारी रे।
अंत समय में रीता चाल्या, बना भिखारी रे।।

रुक गए कण्ठ, दसों दरवाजे, माची घ्यारी रे।
कह कबीर सुनो भई साधो, करनी थारी रे।।

कोई टिप्पणी नहीं