loading...

Dr. Kumar Vishwas – Main tumhaare liye zindgi bhar daha (डॉ. कुमार विशवास – मैं तुम्हारे लिए, जि़न्दगी भर दहा

Share:

Dr. Kumar Vishwas – Main tumhaare liye zindgi bhar daha (डॉ. कुमार विशवास – मैं तुम्हारे लिए, जि़न्दगी भर दहा)

Dr. Kumar Vishwas - Main tumhaare liye zindgi bhar daha
Kumart Vishwas
*****
Main tumhare liye zindgi bhar daha
Main tumhaare liye zindgi bhar daha
Tum bhi mere liye raat bhar to jalo
Main tumhaare liye, umar bhar tak chala
Tum bhi mere liye saat pag to chalo
 
Deepako.n ki tarah roz jab main jala
Tab tumhaare bhawan mein diwaali hui
Jagmagaata, tumhaare liye rath bana
Kintu meri har ek raat kaali hui
Maine tumko nayan neer saagar diya
Tum bhi mere liye anjuri bhar to do
Main tumhaare liye zindgi bhar daha
Tum bhi mere liye raat bhar to jalo…


Dr. Kumar Vishwas
<—-Tum bin kitne aaj akele              Mujh mein kya hai siva tumhare ?—>
Collection of Kumar Vishwas Poetry and Lyrics
*****
मैं तुम्हारे लिए, जि़न्दगी भर दहा
मैं तुम्हारे लिए, जि़न्दगी भर दहा
तुम भी मेरे लिए रात भर तो जलो
मैं तुम्हारे लिए, उम्र भर तक चला
तुम भी मेरे लिए सात पग तो चलो
दीपकों की तरह रोज़ जब मैं जला
तब तुम्हारे भवन में दिवाली हुई
जगमगाता, तुम्हारे लिए रथ बना
किन्तु मेरी हर एक रात काली हुई
मैंने तुमको नयन-नीर सागर दिया
तुम भी मेरे लिए अंजुरी भर तो दो
मैं तुम्हारे लिए जि़न्दगी भर दहा
तुम भी मेरे लिए रात भर तो जलो…
डॉ. कुमार विशवास
<—-तुम बिन कितने आज अकेले               मुझ में क्या है सिवा तुम्हारे ?—>
कुमार विश्वास की कविता और गीतों का संग्रह
*****
 

कोई टिप्पणी नहीं