Advertisement

Main Ad
ये सारे पाखंड फैल मचावै।।ok.
सोच ले, कौन है तेरा, समझ ले ok.
गुरु रामानंद जी, समझ पकड़ मोरी बहियाँ।।ok.
मन परदेसी रे, यहां न तेरा देश।।ok.
197    तनै मिला यो हीरा कीमती, जिसे कहें मनुष्य की खोड़।।वृथा खोवै ना।ok.
मन मूर्खा, गुरु बिन जागा कौन।।344।।ok..
119    तूँ पकड़ शब्द की डोर सखी।।ok.
261    तूँ राम भजन में लगजा, तनै देश गुरु के जाना।।ok.