loading...

Rahat Indori – Andhere Chaaro taraf Saayan-Saayan karne lage (राहत इन्दौरी – अँधेरे चारों तरफ़ सायं-सायं करने लगे)-AAKHIR KYON

Share:

Rahat Indori – Andhere Chaaro taraf Saayan-Saayan karne lage (राहत इन्दौरी – अँधेरे चारों तरफ़ सायं-सायं करने लगे)

Rahat Indori - Andhere Chaaro taraf Saayan-Saayan karne lage

Rahat Indori
*****
Andhere Chaaro taraf Saayan-Saayan karne lage
Andhere Chaaro taraf Saayan-Saayan karne lage
Chiraag haath uthaakar duaaen karne lage


Tarakki kar gaye maut ke saudaagar
Ye sab mariz hai jo ab dawaaen  karne lage
Lahulohan pada tha zameen pe ik sooraj
Parinde apne paron se hawaaen karne lage


Jameen pe aa gaye aankhon se toot kar aasoo
Buri khabar hai farishte khtaayen karne lage
Jhulas rahe hai yahaan chhanv baatne waale
Wo dhoop hai ki shazar iltizaaen karne lage


Azeeb rang tha mazlis ka, khoob mahfil thi
Safed posh uthe Kaaen-Kaaen karne lage
Rahat Indori


<—–Kitni pi kaise kati raat mujhe hosh nahin        Puraane sheharon ke manzar nikalne lagte hai —->
Collection of Rahat Indori Ghazals and Shayari
*****
अँधेरे चारों तरफ़ सायं-सायं करने लगे
अँधेरे चारों तरफ़ सायं-सायं करने लगे
चिराग़ हाथ उठाकर दुआएँ करने लगे
तरक़्क़ी कर गए बीमारियों के सौदागर
ये सब मरीज़ हैं जो अब दवाएँ करने लगे
लहूलोहान पड़ा था ज़मीं पे इक सूरज
परिन्दे अपने परों से हवाएँ करने लगे
ज़मीं पे आ गए आँखों से टूट कर आँसू
बुरी ख़बर है फ़रिश्ते ख़ताएँ करने लगे
झुलस रहे हैं यहाँ छाँव बाँटने वाले
वो धूप है कि शजर इलतिजाएँ करने लगे
अजीब रंग था मजलिस का, ख़ूब महफ़िल थी
सफ़ेद पोश उठे काएँ-काएँ करने लगे
राहत इन्दौरी 
<—–कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं है    पुराने शहरों के मंज़र निकलने लगते हैं—->
राहत इन्दौरी कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह

*****
 

कोई टिप्पणी नहीं