loading...

भगवान् या उनका बल ? - God or their strength?

Share:
भगवान् या उनका बल ?

महाभारत का युद्ध निश्चित हो गया था । दोनों पक्ष अपने-अपने मित्रों सम्बन्धियों सहायक को एकत्र करने मे लग गये थे । श्रीकृष्ण चन्द्र पाण्ड के पक्ष में रहेंगे यह निश्चित था किंतु सभी कौरव वीर इसी सत्य से भयभीत थे । श्री कृष्ण यदि चक्र उठा लें उनके सामने दो क्षण भी खडा होने वाला उन्हें दीखती नहीं था और उनकी नारायणी सेना-विश्व की वह सर्वश्रेष्ठ सेना क्या उपेक्षा कर देने योग्य है ? "कुछ भी हो, जितनी सहायता श्री कृष्ण से पायी जा सके पाने का प्रयत्न करना चाहिये । यह सम्मति थी शकुनि-जैसे सम्मति देने वालों की इच्छा न होने पर भी स्वयं दुर्योधन द्वारकाधीश को रण-निमन्त्रण देने द्वारका पहुँचे ।

दुर्योधन की पुत्री का विवाह हुआ था श्रीकृष्ण तनय साम्ब से । दुर्योधन के लिये द्वारकेश के भवन में जाने मे कोई बाधा नहीं थी । वे भवन मे भीतर पहुँचे । भगवान् वासुदेव भोजन करके मध्याह्न-विश्राम करने शय्या पर लेटे थे । कक्ष मे दूसरा कोई था नहीं । लीलामय ने निद्रा का नाट्य करके नेत्र बद कर रक्खे थे । दुर्योधन ने इधर-उधर देखा । शय्या के सिरहाने के पास बैठने के लिये एक उत्तम आसन पड़ा था । वे उसी पर चुपचाप बैठकर श्रीकृष्णचन्द्र के जागने की प्रतीक्षा करने लगे ।

अर्जुन भी उपप्लन्य नगर से चले थे रण-निमन्त्रण देने । वे भी पहुँचे द्वारकेश के उसी कक्ष में । श्यामसुन्दर को शयन करते देखकर वे उनके चरणों पास खड़े हो गये और उन भुवन सुन्दर की यह शयन झाँकी देखने लगे आत्म विस्मृत होकर सहसा श्रीकृष्णचन्द्र ने नेत्र खोले । सम्मुख अर्जुन को देखकर पूछने लगे–धनञ्जय ! कब आये तुम ? कैसे आये है .  दुर्योधन डरे कि कहीं अर्जुन को ये कोई वचन न दे दें । बैठे-बैठे ही वे बोले-वासुदेव ! पहिले मैं आया हैं आपके यहाँ अर्जुन तो अभी आया है ।

आप !! बायीं ओर से सिर को पीछे घुमाकर जनार्दन ने देखा दुर्योधन को और अभिवादन करके पूछा-कैसे पधारे आप है। । दुर्योधन ने कहा--आप जानते ही हैं कि पाण्डवों से हमारा युद्ध निश्चित है । आप मेरे सम्बन्धी हैं । मैं युद्धमें आपकी सहायता मॉगने आया हूँ ।

अर्जुन! तुम हो। अब अर्जुन से पूछा गया तो वे बोले आया तो मैं भी इसी उद्देश्य से हूँ । बडे गम्भीर स्वर में द्वारका नाथ बोले-आप दोनों हमारे सम्बन्धी हैं । इस घरेलू युद्ध में किसी पक्ष से युद्ध करना मुझे प्रिय नहीं है । मैं इस युद्ध मे शस्त्र नहीं ग्रहण करूंगा । एक और मैं शस्त्रहीन रहूँगा और एक ओर मेरी सेना शस्त्र-सज्ज रहेगी । परंतु राजन् । अर्जुन को मैने पहिले देखा है और वे आपसे छोटे भी हैं अतः पहिले अर्जुन को अवसर मिलना चाहिये कि वे दोनों में से जो चाहें अपने लिये चुन लें ।

अर्जुन को तो जैसे वरदान मिला । वे डर रहे थे कि कहीं पहिलो अवसर दुर्योधन को मिला और उसने वासुदेव को ले लिया तो अनर्थ ही हो जायगा । उन्होंने बड़ी आतुरता से कहा--आप हमारी ओर रहें ।।  दुर्योधनका मुख सूख गया था द्वारकेश के निर्णयसे । वे सोचने लगे थे जब ये शस्त्र उठायेंगे ही नहीं, तब युद्ध में इन्हें लेकर कोई करेगा क्या । उल्टे कोई-न-कोई उपत्र खडा किये रहेंगे ये । कहीं ऐसा न हो कि अर्जुन सेना ले ले और ये हमारे सिर पड़े । अर्जुन की बात सुनते ही दुर्योधन आसन से उत्साह् के मारे उठ खड़े हुए–“हाँ, हाँ, ठीक है ! स्वीकार है हमें ! आप पाण्डव पक्ष में रहें और नारायणी सेना को आज्ञा दें हमारे पक्ष में प्रस्थान करने की । भगवान् ने पहले ही वामदृष्टि से देख लिया था उनकी ओर, इससे भगवान् को न पाकर प्रसन्न हो गये ।  दुर्योधन के सामने ही सेना को आदेश भेज दिया गया । जब वे प्रसन्न होकर चले गये, तब हँसकर मधुसूदन अर्जुन से बोले-पार्थ ! यह क्या बचपन किया तुमने ! सेना क्यों नहीं ली तुमने ! मैंने तो तुमको पहिले अवसर दिया था । मैं शस्त्र उठाऊँगा नहीं, यह कह चुका हैं । मुझे लेकर तुमने क्या लाभ सोचा । तुम चाहो तो यादव शूरों की एक अक्षौहिणी सेना अब भी मेरे बदले ले सकते हो।
अर्जुन के नेत्र भर आये । वे कहने लगे-माधव ! आप मेरी परीक्षा क्यों लेते हैं । मैंने किसी लाभ को सोचकर आपको नहीं चुना है । पाण्डवो की जय हो या न हो किंतु हम आपको छोड़कर नहीं रह सकते है। आप तो हमारे प्राण हैं । आपसे रहित आपका बल हमें नहीं चाहिये । हम तो आपके हैं आपके समीप रहना चाहते हैं ।

क्या कराना चाहते हो तुम मुझसे  हँसकर पूछा वासुदेव ने और हँसकर ही अर्जुन ने उत्तर दिया--‘सारथि बनाऊँगा आपको । मेरे रथ की रश्मि हाथ मे लीजिये और मुझे निश्चिन्त कर दीजिये ।

जो अपने जीवन-यकी डोर भगवान् के हाथ में सौंप देता है, उसकी लौकिक तथा पारमार्थिक विजय निश्चित है

कोई टिप्पणी नहीं