भगवती ने कन्या रूप से टटिया(बेड़ा) बाँधी-Bhagwati tied the girl as a girl

भगवती ने कन्या रूप से टटिया(बेड़ा) बाँधी

भक्तशिरोमणि कविवर रामप्रसाद सेन ने अपने जीवनकाल में ही देवी उमा का साक्षात्कार किया था। ईतनी थी उनकी प्रगाढ भक्ति एवं भगवती के चरणों की लवलीनता कहा जाता है कि एक बार उन्होंने अपनी कुटिया के लिये कुछ बाँस के डंठल, घास-फूस एवं डोरी लेकर टटिया (बेड़ा) बाँधने का उपक्रम किया । समय था अपराह्न काल।

Bhagwati tied the wood as Girl

भक्त प्रवर ने सोचा कि क्यों नहीं माँ उमा (उनकी लड़की का नाम)-से ही सहायता लेकर बेड़ा बाँध लिया जाय। उन्होंने 'माँ उमा, माँ उमा' कहकर पुकारा। माँ उमा (उनकी लड़की) उस समय अपनी सखियों के घर खेलने गयी थी। उनको इसका क्या पता था। वे तो दो-चार बार माँ उमा को पुकार करअपने कार्य में लग गये। सङ्गीत उनके हृदय से नि:सृत हो रहा था, जिसमें उनकी तपी-तपायी भक्ति का भाव-स्रोत फूट रहा था और वे थे भाव में तल्लीन।


इस पार से डोरी को उन्होंने दिया, परंतु उस ओर से डोरी तो आनी ही चाहिये। नहीं तो, बेड़ा बँधता किस तरह ! भगवती उमा ने अपने बेटे के कष्ट एवं निश्छलता को देखा और माँ दौड़ पड़ी संतान की मदद के लिये। फिर तो क्या था। दोनों ओर से डोरी आ-जा रही थी और इस तरह वह बेड़ा बँधकर सङ्गीत-लहरी के शेष होते-होते तैयार हो गया।

माँ की कैसी विडम्बना ? संतान की पुकार पर क्षण भर में दौड़ पड़ना और फिर आँखों से ओझल! ठीक उसी समय आती है उनकी कन्या माँ उमा। उमा ने आते ही आश्चर्य से पूछा कि ' बाबा! क्या ही बढ़ियाँ बेड़ा बाँधा है आपने, कैसे आपसे अकेले ऐसा सम्भव हो पाया। पिता ने स्मित हँसी हँसकर कहा कि 'बेटी ! बिना तेरी मदद के यह कैसे सम्भव हो पाता, तूने ही तो इस ओर से डोरी दे-देकर मेरी सहायता की और तभी तो यह सुन्दर बेड़ा बँधकर सामने है।


कन्या के आश्चर्य का कोई ठिकाना नहीं रहा, जब उसने अपनी मदद की बातें सुनीं तब बतलाया कि वह तो अपनी सहेलियों के साथ खेल रही थी। वह तो अभी-अभी बेड़ा के बँध जाने पर आयी है। पहले तो रामप्रसाद जी ने सहसा विश्वास ही नहीं किया। परंतु कन्या के बार-बार कहने पर उनको बड़ा ही आश्चर्य हुआ और तब भक्त ने समझा कि भगवती उमा ने ही आकर उनकी सहायता की थी और भक्त प्रवर फूट-फूटकर रोने लगे एवं सङ्गी तल हरी फिर पूर्व की तरह प्रवाहित हो चली।

यह उनके जीवन की एक सच्ची किंतु अलौकिक घटना है, जिसका उनके एक तत्सम्बन्धी सङ्गीत से भी पता चलता है-
मन के न मार चरण छाड़ा॥
ओ मन भाव शक्ति, पाबे मुक्ति,
बाँधो दिया भक्ति दड़ा समय थाकते ना देख ले मन,
के मन तो मार कपाल पोड़ामा भक्ते छलिते,
तनया रूपेते बाँधेन आसि घरेर बेड़ाजेई ध्याबे एक मने,
सेई पाबे कालिका ताराताई देखो कन्यारूपे,
रामप्रसादेर बाँधछे बेड़ा ॥१॥

अर्थ यों है-रे मन! तुमने माँ के चरण को क्यों छोड़ दिया? ओ मन! शक्ति रूपिणी माँ का चिन्तन करो, तुम्हें मुक्ति प्राप्त होगी। भक्तिरूपी रस्सी से उसे बाँध लो। रे मन !तुमने समय रहते माँ को नहीं देख पाया, तुम्हारा कैसा जला हुआ कपाल था। भक्त को छलने के लिये माने कन्या रूप में आकर घर का बेड़ा बाँध दिया। जो एक मन से माँ का ध्यान करेगा, वही माँ कालिका ताराको पायेगा। तभी तो माँ उमा ने कन्या रूप से राम प्रसाद का बेड़ा बाँधा।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां