loading...

मेरां भी अनुकरण करने वाले हैँ -Gonna follow me too

Share:
मेरां भी अनुकरण करने वाले हैँ 

एक बहिरा मनुष्य नियमपूर्वक कथा सुनने जाया करता था । जब कथावाचकजीक्रो पता लगा कि वह बहिरा है और कथाका एक शब्द नहीं सुन याता तब उन्होंने उसके क्रानके पास मुख ले जाकर पुकारकर मूछा-" आपको तो कथा सुनायी पड़ती नहीं, फिर आप प्रतिदिन यहाँ क्यों आते हैँ ?' 

बहिरा मनुष्य बोला…'यहाँ भगवान्क्री कथा होती है 1 मैँ उसे सुन पाऊँ या नहीं, अन्यत्र बैठनेस्ने यहकि 

पवित्र चाताबरणमेँ बैठनेका लाभ तो मुझें होता ही है 1 परंतु मुख्य बात तो' यह है कि मेरा भी अनुकरण करनेवाले कुछ लोग हैँ । मेरे बच्चे और सेवक, मेरे घरके दूसरे सदस्य मेरे आचरणसे ही प्रेरणा प्राप्त करते हैं । मैँ कथामेँ इसीलिये नियमपूर्वक आता हूँ कि इससे उनके चित्तमें भगवत्कथाके प्रति’ रुचि, श्रद्धा, महत्त्वबुद्धि तथा उत्कगठा हो । तथा मैं आकर बैठता हूँ इससे कथाके शब्दोंसे मेरे अङ्गनेकेब्ब स्पर्श तो होता ही है ।'--सु० सिं० 

No comments