loading...

सुकुमार वीर-Sukumar Veer

Share:
सुकुमार वीर 

महाभारत के युद्ध का नवम दिन था । आज भीष्मपितामह पूरी उत्तेज़ना में थे । उनका धनुष आज प्रलय की बर्षा कर रहा था । पाण्डव दल में क्षण क्षण पर रथ, अश्व, गज और योधा कट-कटकर गिर रहे थे । हाहाकार मच गया था पाण्डव दल मेँ । बड़े-बड़े विख्यात महारथी भी भाग रहे थे । व्यूह छिन्न-भिन्न हो चुका था । सैनिकों को भागने को स्थान नहीं मिल रहा था । श्रीकृष्ण चन्द्र ने यह अवस्था देखकर अर्जुन को उत्साहित किया । पितामह पर बाण-वर्षा करने की इच्छा अर्जुन में नहीं थी किंतु अपने परम सखा श्रीकृष्ण की प्रेरणा से वे युद्ध के लिये उद्यत हुए । वासु देव ने उनका रथ पितामह के सम्मुख पहुँचाया । पाण्डव-सेना ने देखा कि अर्जुन अब पितामह से युद्ध करेंगे तो उसे कुछ आश्वासन मिला ।

अपने सम्मुख अर्जुन के नन्दिघोष रथ को देखकर भीष्म का उत्साह और द्विगुणित हो उठा । उनके धनुष की 
प्रत्यझा का घोष बढ़ गया और बढ़ गयी उनकी वाणवृष्टि ! अर्जुन ने दो बार उनका धनुष काट दिया किंतु इससे पितामह का उत्साह शिथिल नहीं हुआ । उनके पैने बाण कवच फोड़कर अर्जुन और श्रीकृष्ण के शरीर को विद्ध करते जा रहे थे । दोनों के शरीरो पे रक्त के झरने बह रहे थे । 

श्रीकृष्णचन्द्र ने देखा कि उनका सखा अर्जुन मन लगाकर युद्ध नहीं कर रहा है । उन जनार्दन को अपने जनों में प्रमाद सह्य नहीं हैँ । आज अर्जुन पितामह के प्रति पूज्य भाव होने के कारण युद्ध भूमि में क्षत्रिय के उपयुक्त कर्तव्य के प्रति जागरूकता का परिचय नहीं दे रहे थे । वे शिथिल हो रहे थे कर्तव्य के प्रति ! मधुसूदन यह सह नहीं सके। उन्होंने घोडों की रषिम छोड दी और चाबुक ही लिये दौड पड़े भीष्म की और।   

रक्त और लोथों से पटी युद्धभूमि, स्थान-स्थान पर पड़े बाण, खड्रग, खपिडत धनुष और उसमें दौड़ते जा रहे थे कमललोचन वासुदेव ! उनके चरण रक्त से सन गये थे उनके शरीर से रक्त प्रवाहित हो रहा था । उनके नेत्र अरुण हो उठे थे 1 उनके अधर फड़क रहे थे । उनके उठे हाथ में चाबुक की रस्सी घूम रही थी । दौडे जा रहे थे वे भीष्म की और 

युद्ध के प्रारम्भ मेँ ही दुर्योधन ने आचार्य द्रोण तथा अपने सभी महारथियो को आदेश दिया था

 श्रीम्पा मेचाभिरक्षन्तु भबन्त: सर्व एव हि' '

आप सब लोग केबल भीष्म की सावधानी से रक्षा करे। 

वहाँ द्रोणाचार्य थे, अश्वत्थामा थे, शल्य थे, दु:शासन के साथ दुर्योधन था अपने सभी भाइयों के सङ्ग और उसके षक्ष के सभी महारथी थे किंतु सब हाथ उठाकर स्त्रियों की भाँति चिल्ला रहे थे-' भीष्म मारे गये। भीष्म अब मारे गये । 

श्री कृष्ण…सौ कुमार्य की मूर्ति श्री कृष्ण और उनके पास कोई शस्त्र नहीं । वे चक्र नहीँ, केवल चाबुक लेकर दौड़ रहे थे । परंतु जिसका संकल्प कोटि-कोटि ब्रह्मामाँडों को पल में ध्वस्त कर देता हैँ, उसके हाथ मे चक्र हो या चाबुक, कौरव-पक्ष मे ऐसा मूर्ख कोई नहीं था जो आशा करे कि रोष में भरे मधुसूदन के सम्मुख वह आधे पल रुक सकेगा । कराल काल भी जहाँ काँप उठे, वहाँ मरने कौन कूदे । धरी रही राजाज्ञा, भूल गया शौर्य, पूरा कौरव दल हाथ उठाये पुकार रहा था- भीष्म मारे गये! अब मारे गये भीष्म !

भीष्म तो अपने रथ मेँ बैठे स्तुति कर रहे थै - पधारो मधुसूदन ! अपने हाथों मारकर भीष्म को आज कृतार्थ कर दो माधव ! परंतु अर्जुन कूद पड़े अपने रथ से। दौड़कर पीछे से उन्होंने अपने सखा के चरण पकड़ लिये और कहा…मुझे क्षमा करो वासुदेवा में अब प्रमाद नहीं करूँगा । तुम अपनी प्रतिज्ञा मत तोड़ो।

कोई टिप्पणी नहीं