loading...

सच्ची श्रद्धा-True devotion

Share:
सच्ची श्रद्धा 

नगर का नाम और ठीक समय स्मरण नहीं है । वर्षा ऋतु बीती जा रही थी किंतु वर्षा नहीं हुईं थी। किसानों के खेत सूखे पड़े थे । चारेके अभावमें पशु मरणासन्न हो रहे थे । जब कोई मानव-प्रयत्न सफल नहीं होता, तृब मनुष्य    उस त्रिभुवन के स्वामी की ओर देखता है । गॉव्र के सब लोग गिरजाघर मेँ एकत्र हुए वर्षा के लिये प्रार्थना करने ।  

एक छोटा बालक भी आया था; किंतु वह आया था अपना छोटा-सा छत्ता लेकर । किसीने उससे पूछा.तुझे क्या इतनी धूप लगती है कि छत्ता लाया है ? 

बालक बोला… वर्षा होगी तो घर भीगते जाना पड़ेगा इसलिए मैं छात्ता लाया हूँ कि भीगना न पड़े । 

प्रार्थना की जायगी और वर्षा नहीं होगी, यह संदेह ही उस शुद्धचित्त बालक के मन में नही उठा । जहाँ इतना सरल विश्वास है, वहाँ प्रार्थना के पूर्ण होने में संदेह कहाँ । प्रार्थना पूर्ण होते-होते तो आकाश बादलों से ढक चुका था और झडी प्रारम्भ हो गयी थी । बालक अपना छात्ता लगाये प्रसन्नतापूर्वक घर गया । यह वर्षा इतनी भीड़ के प्रार्थना करने से होती या नहीं, कौन कह सकता है; किंतु वह हुई, क्योंकि प्रार्थना करने वालो में वह सच्चा श्रद्धालु बालक भी था। 

कोई टिप्पणी नहीं